home page

बाइक में मोटे और चौड़े टायर लगवाने के ये है फायदे और नुकसान, ऐसा करने से पहले जरूर जान लें

Bike tyre Modifications : आजकल युवाओं में बाइक मॉडीफाई करवाने का ट्रेंड सा चला हुआ है। कोई टायर बदलवा रहा है तो कोई लाइटिंग। लेकिन क्या आप ये जानते है कि ऐसा करना आपके लिए फायदेमंद है या नुकसानदायक? अगर आप भी टायर बदलवाने का सोच रहे है तो पहले यहां जान लें कि इससे आप पर और आपकी बाइक पर क्या असर पडेंगा।   
 | 

HR Breaking News, Digital Desk- बाइक का क्रेज आजकल युवाओं में कुछ ज्यादा ही बढ़ गया है, और इतना ही नही वे इसे अपने हिसाब से तैयार भी करवाते है।  बाइक को मॉडीफाई करवाने का क्रेज युवाओं के बीच लगातार बढ़ता ही जा रहा है। बाइक मॉडिफिकेशन के दौरान अक्सर बाइक का पिछला पहिया निकलवाकर इसमें चौड़ा टायर इस्तेमाल किया जाता है। क्या आप जानते हैं कि बाइक में नॉर्मल से अलग कोई भी टायर इस्तेमाल करने के क्या फायदे और नुकसान (Advantages and disadvantages of wide tires) हैं? अपने इस वीडियो में आपको इसी से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं।

ये है चौड़े टायर के फायदे और नुकसान (Advantages and disadvantages of wide tires)

इब ये बात तो इस पर निर्भर करता है कि बाइक कितने cc इंजन वाली है, मसलन अगर आपकी बाइक 100cc या 125cc इंजन की है और उसमें आप चौड़ा टायर लगवाते हैं तो उससे बाइक की रोड पर ग्रिप अच्छी तो बनेगी लेकिन इससे बाइक की माइलेज पर असर पड़ता है। क्योंकि चौड़ा और बड़ा टायर वजन में भी ज्यादा होता (wide tires affects mileage)  है। 


इसके अलावा बाइक की राइडिंग क्वालिटी में भी फर्क आ जाता है। चौड़े और मोटे टायर लगाने से गाड़ी का लुक काफी स्पोर्टी (car looks sporty by installing wide and thick tires) हो जाता है। वही ब्रेक की ग्रिप भी अच्छी बनती है क्योंकि टायर का अधिक हिस्सा जमीन के साथ लगा रहता है।


वैसे भी छोटे इंजन वाली बाइक्स (small engine bikes) में बड़े और चौड़े टायर्स लगवाने से इंजन को ज्यादा फोर्स लगानी पड़ती है जबकि पतले और हल्के टायर्स में यह दिक्कत नहीं होती, इसलिए इनकी परफॉरमेंस में भी फर्क देखने को मिल जाता है। वैसे आजकल 150cc या इससे अधिक इंजन वाली बाइक में चौड़े और मोटे टायर्स (Wide and thick tires on the bike) देखने को मिल रहे हैं। वैसे ज्यादातर एक्सपर्ट बाइक में बड़े और चौड़े टायर लगवाने की सलाह नहीं देते क्योंकि बाइक का असली टायर ही उसकी बनावट और माइलेज के हिसाब से सबसे अच्छा होता है।


जान लें कितने प्रकार के होते हैं वाहन के टायर

जानकारी के अनुसार टायर दो तरह के होते हैं ट्यूबलेस टायर (tubeless tire) और ट्यूब टायर (tube tire)। कीमत के लिहाज से ट्यूबलेस टायर, ट्यूब टायर से 300-400 रुपये ही महंगा है। आजकल ज्यादातर गाड़ियों में अब ट्यूबलेस टायर ही लगे होते हैं ट्यूबलेस टायर से सड़क पर बेहतर ग्रिप और कंट्रोल मिलता है और अगर टायर पंक्चर हो जाए तो इसमें से हवा धीरे-धीरे निकलती है साथ ही चलती गाड़ी का बैलेंस भी नहीं बिगड़ता।

इस तरीके से खरीदें सकते है सही टायर

अगर आप नही जानते है तो बता दें कि भारत में बाइक के टायर की कीमत 900 रुपये से शुरू होती है। टायरों के दाम सीजन के हिसाब से कम और ज्यादा होते रहते हैं। टायरों की कीमत में मोलभाव की भी काफी गुंजाइश होती है। टायर हमेशा ऑथराइज्ड डीलर से ही खरीदें (Always buy tires from authorized dealers only.) और साथ में पक्का बिल जरूर लें, ताकि अगर कोई दिक्कत भी हो टायर को बदलने में सहूलियत रहेगी। 


टायर खरीदते समय आप ये जरूर ध्यान रखें (Be careful while buying tires) कि उनकी मैन्युफैक्चरिंग डेट ज्यादा पहले की न हो। एक साल से पहले बने टायर हरगिज न खरीदें। इसके अलावा आजकल मार्केट में चीन के बने टायर भी काफी दिख रहे हैं। उनके लुक्स पर न जाएं और वॉरंटी वाले टायर ही खरीदें।