home page

Chanakya neeti: इन 3 लोगों से हमेशा बना के रखें दूरी, जिंदगी कर देते हैं बर्बाद

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति शास्त्र में इन तीन लोगों के बारे में जिक्र किया है की इन लोगों से हमेशा दूरी बनाकर रखनी चाहिए। ये लोग आपके बारे में हमेशा बुरा ही सोचेंगे। हर समय आपको नीचा दिखाने की कोशिश करेंगे. 
 
 | 
Chanakya neeti: इन 3 लोगों से हमेशा बना के रखें दूरी, जिंदगी कर देते हैं बर्बाद

HR Breaking News (ब्यूरो) : हमें बचपन से ही सीखाया जाता है कि जरूरतमंद की मदद करनी चाहिए. लेकिन आचार्य चाणक्‍य के मुताबिक, आपको मदद करने से पहले लोगों के चरित्र के बारे में जान लेना चाहिए. इंसान अच्छी जिंदगी के लिए क्या नहीं करता. मेहनत कर पैसा कमाता है. घर से लेकर सुखी जीवन के लिए हर वस्तु को जोड़ता है. हालांकि, इस दौरान वह कई गलतियां भी कर देता है, जिस वजह से उसकी जिंदगी नरक के समान हो जाती है. आचार्य चाणक्य ने सुखी जीवन के कुछ उपाय बताए हैं, इन उपायों या बातों को अगर जिंदगी में अमल कर लिया तो जिंदगी स्वर्ग के समान लगने लगती है।

मृत्यु के समान है रहना


आचार्य चाणक्य ने जीवन में तीन लोगों से दूरी बनाने को कहा है. ये तीन लोगों को अगर जिंदगी से निकाल दिया जाए तो इंसान को सुखी होने से कोई नहीं रोक सकता है. आचार्य चाणक्य ने ऐसे तीन लोगों के साथ रहना मृत्यु के समान बताया है. ये तीन लोग चरित्रहीन स्त्री, आत्ममुग्ध इंसान और हमेशा दुखी रहने वाला इंसान है।

MP के इन जिलों से गुजरेगी 342 किमी लंबी नई रेल लाइन, 514.40 करोड़ रुपये हुए जारी

चरित्रहीन पत्नी 


आचार्य चाणक्य की नीति कहती है कि घर में दुष्ट पत्नी हो तो आपका सुखमय जीवन मौत के समान लगने लगता है. जिस घर में ऐसी स्त्री निवास करती है, वह घर नरक के समान हो जाता है. ऐसे घर में हमेशा कलह, झगड़ा होते रहता है, जिससे इंसान की जिंदगी बर्बाद हो जाती है।


इस लोगों से बनाएं सौ कदम की दूरी 


आचार्य चाणक्य के मुताबिक, हमेशा दुखी रहने वाले लोगों से सौ कदम की दूरी बना कर रखना चाहिए. ऐसे लोग दूसरों की खुशी से घृणा करते हैं और मन ही मन उनके लिए बुरा भाव भी रखते हैं. इसलिए अगर आप ऐसे लोगों से दूरी नहीं बनाएंगे तो आपका जीवन हमेशा नकारात्मक वातावरण में चले जाएगा, क्योंकि ये सिर्फ दुखी होने का दिखावा करते हैं।

दिल्ली में DTC या क्लस्टर बस में सफर करने वालों के लिए बड़ा अपडेट


 
आत्ममुग्ध इंसान


आचार्य चाणक्य के अनुसार, किसी आत्ममुग्ध या मूर्ख की मदद करना अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है. ऐसे लोग आपको हमेशा हराने की कोशिश करते हैं. अगर आप इन लोगों का कुछ भला भी करते हैं तो ये लोग फिर भी घमण्‍ड में ही रहते हैं और आपको हर दम नीचा दिखने का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं।