home page

Dubai Property : दुबई में इन लोगों ने खरीदी है सबसे ज्यादा प्रोपर्टी, जानिए भारत का कौन सा है नंबर

Dubai Property News : भारतीयों को दुनियाभर में घूमने के साथ प्रॉपर्टी खरीदने में भी काफी रुचि है। भारत ही नही दुनिया के बाकी देश भी दुबई में प्रोपर्टी खरीदनें के मामले में पीछे नही है। अब सवाल ये उठता है कि एशिया के बेस्ट शहर में सबसे ज्यादा प्रोपर्टी खरीदने वाला देश कौन सा है। और इनमें भारत कौन से नंबर पर आता है। 

 | 
Dubai Property : दुबई में इन लोगों ने खरीदी है सबसे ज्यादा प्रोपर्टी, जानिए भारत का कौन सा है नंबर

HR Breaking News, New Delhi : अगर बात की जाए एशिया के बेस्ट शहर (Best cities of Asia) की तो एशिया में दुबई को एक शानदार शहर के तौर पर गिना जाता है। यहां के डेवलपमेंट मॉडल की तारीफ पूरी दुनिया में होती है। यही वजह है कि दुनियाभर के लोग यहां प्रॉपर्टी खरीदने (property news) के लिए उत्सुक रहते हैं। दुबई में सबसे ज्यादा संपत्ति भारत के लोगों की है। इसके बाद पड़ोसी देश पाकिस्तान का नंबर आता है। 

सबसे ज्यादा 35 हजार संपत्तियां जिनमें 29,700 भारतीय लोगों की


जारी हुई एक रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त अरब अमीरात के दुबई में विदेशियों के मालिकाना हक वाली प्रॉपर्टी (property in dubai) की वैल्यूएशन साल 2022 तक 160 अरब डॉलर हो चुकी थी। यहां एक से एक नामी गिरामी लोगों ने संपत्ति खरीदी हुई है। पाकिस्तान के अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, दुबई में सबसे ज्यादा 35 हजार संपत्तियां 29,700 भारतीय लोगों की हैं।


साल 2022 तक इन प्रॉपर्टी की वैल्यू  (property value) लगभग 17 अरब डॉलर आंकी गई थी। भारत के बाद 23 हजार संपत्तियों के साथ पाकिस्तान का नंबर आता है। दुबई में पाकिस्तान के 17 हजार लोगों की प्रॉपर्टी हैं। 

दुबई अनलॉक्ड नाम की इंटरनेशनल रिपोर्ट से हुआ ये खुलासा 


जानकारी के लिए बता दें कि डॉन की यह रिपोर्ट ‘दुबई अनलॉक्ड’ नाम की एक इंटरनेशनल रिपोर्ट पर आधारित है। अमेरिका के एक एनजीओ सेंटर फॉर एडवांस्ड डिफेंस स्टडीज (C4ADS) के पास यह डेटा लीक होकर सबसे पहले पहुंचा था। उन्होंने यह रिपोर्ट नॉर्वे के वित्तीय संस्थान और आर्गनाइज्ड क्राइम एंड करप्शन रिपोर्टिंग प्रोजेक्ट (OCCRP) को दे दी, जहां से यह डॉन (Dawn) जैसे दुनिया के कई मीडिया संस्थान तक पहुंची है। 

निवेश के अलावा इन कारणों से खरीदते हैं संपत्ति


बता दें कि आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, लीक डेटा 2020 से 2022 तक का है। दुबई में ज्यादातर विदेशी कानून प्रवर्तन एजेंसियों (foreign law enforcement agencies) से बचने और पश्चिमी देशों में संपत्ति खरीदने (buying property in western countries) पर लगी रोक के चलते प्रॉपर्टी खरीदते हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि संयुक्त अरब अमीरात की कई देशों के साथ प्रत्यर्पण संधि नहीं है। 


इसलिए यह भगोड़ों के लिए फेवरेट डेस्टिनेशन (favourite destination of asia) बना हुआ है। इसके अलावा बड़ी संख्या में लोग निवेश के अवसर के तौर पर भी दुबई को ही चुनते हैं। रिपोर्ट में विदेशी मालिकों को तीन श्रेणी में बांटा है। इनमें आरोपी, प्रतिबंधित लोग और भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे लोग शामिल हैं। यही वजह है कि कई लोग छिपकर दुबई में प्रॉपर्टी खरीदते हैं।