home page

Personal Loan चुकाने के बाद नहीं किया ये काम तो खड़ी हो जाएगी बड़ी मुसीबत

Personal Loan  Tips  - आज के समय में अपनी आर्थिक जरूरतों को पूरा करने के लिए सभी पर्सनल लोन लेते हैं। पहले के मुकाबले आज लोन लेना बहुत आसान हो गया है। लेकिन इससे जुड़े कुछ नियमों और जरूरी डॉक्यूमेंट्स के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। अगर आपने समय पर पर्सनल लोन चुका दिया है। तो अब इसके बाद भी कुछ अधूरे काम होते हैं जिन्हें पूरा करना होता है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो भविष्य में मुसीबत खड़ी हो सकती है। चलिए नीचे खबर में जानते हैं - 

 | 

HR Breaking News (ब्यूरो)। पर्सनल लोन (Personal Loan) एक महंगे ब्याज दर वाला लोन होता है। जाहिर है आपने इसके बावजूद अगर अपना पर्सनल लोन चुका दिया है तो एक राहत भरी बात है। लेकिन रीपेमेंट के बाद पर्सनल लोन से जुड़े काम यहीं खत्म नहीं हो जाते। आपको लोन चुकाने के बाद भी कुछ औपचारिकताओं को पूरा करना जरूरी होता है। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। अगर आप लोन क्लोजिंग के बाद की सारी प्रक्रिया को पूरी कर लेते हैं तो आगे आपको ही आसानी होगी।


नो ड्यूज सर्टिफिकेट


पर्नसल लोन चुकाने के बाद आपके बैंक या वित्तीय कंपनी द्वारा नो ड्यूज सर्टिफिकेट (एनडीसी) जारी किया जाता है। यह सबसे महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट्स (loan documents) में से एक है जिसे आपको अपना लोन चुकाने के तुरंत बाद कलेक्ट करना चाहिए। इस डॉक्यूमेंट को लंबे समय तक अपने पास रखना भी एक समझदारी भरा फैसला है। यह सर्टिफिकेट आपके द्वारा किए गए रीपेमेंट को वैलिड बनाता है। इस डॉक्यूमेंट के बिना, आप यह साबित नहीं कर सकते कि आपने अपना कर्ज़ चुका दिया है। अगर आप निकट भविष्य में कोई दूसरा लोन लेने की सोच रहे हैं, तो आपको यह साबित करने के लिए इस डॉक्यूमेंट की जरूरत होगी कि आपका पिछला लोन चुका दिया गया है।

अगर आप हार्ड कैश (hard cash) के जरिये आखिरी राशि का भुगतान कर रहे हैं तो यह डॉक्यूमेंट आपके बैंक द्वारा मौके पर ही जारी किया जाता है। अगर आप चेक या एनईएफटी या किसी दूसरे माध्यम से भुगतान कर रहे हैं, तो बैंक एनडीसी जारी करेगा और इसे या तो आपके रजिस्टर्ड पते पर भेज देगा या बैंक की शाखा कार्यालय से इसे कलेक्ट करने के लिए कहेगा।

स्टेटमेट ऑफ अकाउंट


एनडीसी के साथ स्टेटमेट ऑफ अकाउंट या एसओए आपको यह साबित करने में मदद करेगा कि आपके लोन का पूरी तरह से पेमेंट कर दिया गया है और समय पर भुगतान किया गया है। यह एक ऑप्शनल डॉक्यूमेंट है जो अक्सर कुछ बैंकों द्वारा जारी किया जाता है। अगर आपका बैंक यह डॉक्यूमेंट उपलब्ध करता है, तो आपको इसे हासिल करने पर विचार करना चाहिए। साथ ही आपको क्रेडिट स्कोर में किसी भी प्रकार की विसंगतियों पर भी ध्यान देना चाहिए। अगर आपको कुछ गलत लगता है, तो आप उसमें जरूरी परिवर्तन करने के लिए स्टेटमेट ऑफ अकाउंट का इस्तेमाल कर सकते हैं।

दिए गए चेक जो इस्तेमाल नहीं हुए उसे भी कलेक्ट करें


बैंकबाजार के मुताबिक, अगर आपके पास कुछ चेक के पेज हैं जिनका इस्तेमाल नहीं किया गया है, तो आपको उन्हें भी कलेक्ट करना चाहिए। नो ड्यूज सर्टिफिकेट और बिना इस्तेमाल किए चेक के पन्ने, आमतौर पर, लोन को बंद करने की प्रक्रिया के आखिरी स्टेप का प्रतीक है।

लोन क्लोजिंग के बाद अपना क्रेडिट स्कोर जांचें


हालांकि यह एक सलाह भर है। लोन क्लोजिंग की प्रक्रिया ख्तम होने के बाद क्रेडिट स्कोर की जांच करना जरूरी नहीं है। सलाह ये है कि आप यह सुनिश्चित करने के लिए स्कोर की जांच करें कि स्कोर में कोई अंतर नहीं है। अगर मौजूदा लोन के बंद होने के 1 से 2 साल के भीतर आपको दूसरा लोन मिलने की कुछ संभावना है, तो क्रेडिट स्कोर जरूर जांचें।