home page

PF खाताधारकों के अकाउंट में आएंगे 8150 रुपए, समझ लीजिए फॉर्मूला

provident fund - पीएफ खाताधारकों के लिए एक अपडेट सामने आया है। दरअसल, सरकार ने ईपीएफ की ब्याज दरों (EPF interest rate) में बढ़ोतरी कर दी है। वहीं, एक आरे सरकार ने पीएफ खाताधारकों को बड़ा तोहफा दिया है। अगर आपको जानकारी नहीं है तो आपको बात दें, कि इन पीएफड खाताधारकों (PF account holders) के खातें में 8150 रुपए आएंगे ये खबर सामने आने के बाद लोग इसका कैलकुलेशन करने में जुट गए होंगे। आइए नीचे खबर में विस्तार से जानते हैं- 
 | 
PF खाताधारकों के अकाउंट में आएंगे 8150 रुपए, समझ लीजिए फॉर्मूला

HR Breaking News, Digital Desk- उन नौकरीपेशा लोगों को सरकार ने बडी खुशखबरी दी है, जिनका हर महीने सैलरी से पीएफ (PF) के रूप में कटता है। जी हां, सरकार ने लगातार दूसरे साल ईपीएफ (EPFO interest rate) की ब्याज दरों में इजाफा कर दिया है। इससे पहले सरकार ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए 0.05 फीसदी का इजाफा किया था और अब वित्त वर्ष 2023-24 के लिए 0.10 फीसदी का इजाफा कर दिया है।

 

 

 

इसका मतलब है कि दो सालों में सरकार ने ईपीएफ (EPFO) के ब्याज पर 0.15 फीसदी का इजाफा कर कुल ब्याज दर को 8.25 फीसदी का दिया है. जोकि 3 साल का हाई है।

अब सबसे बडा सवाल ये है कि इस फैसले के बाद ब्याज के रूप में आपके अकाउंट में कितना रुपया आएगा. खबर आने के बाद तमाम लोग इसका कैलकुलेशन करने में जुट गए होंगे. इसे कैलकुलेट करने का एक फॉमूला है. जिसे अप्लाई करने के बाद ही आप जान पाएंगे कि आपके अकाउंट में ब्याज के रूप में कितना पैसा आएगा. साथ ही आपको इस फैसले से कितना फायदा पहुंच गया है.

 

 

 

कैसे कटता है आपका ईपीएफ?

ईपीएफओ (EPFO) एक्ट के अनुसार कर्मचारी के बेसिक सैलरी और महंगाई के 12 फीसदी हिस्से को प्रोविडेंट फंड के अकाउंट में डिपॉजिट किया जाता है. वहीं दूसरी तरफ कंपनी की ओर से इंप्लाॅई के ईपीएफ अकाउंट (EPF account) में 12 फीसदी का कंट्रीब्यूशन होता है. लेकिन इसमें थोडा चेंज भी है. इंप्लॉयर कंट्रीब्यूशन का 3.67 फीसदी हिस्सा ईपीएफ में जाता है और बाकी 8.33 फीसदी हिस्सा पेंशन स्कीम (pension scheme) में डिपॉजिट हो जाता है. इस तरह से किसी भी इंप्लॉई का प्रोविडेंट फंड क्रिएट होता है.

अकाउंट में कितना आएगा ब्याज का पैसा?

ईपीएफओ की संस्था सीबीटी ने ईपीएफ ब्याज दरों (EPF interest rates) को 8.25 फीसदी करने का फैसला लिया है. इससे पहले यह ब्याज दर 8.10 फीसदी था. अब इसे एक कैलकुलेशन से समझने की कोशिश करते हैं. इसके लिए एक फॉर्मूला है. मान लीजिय आपके पीएफ अकाउंट में कुल 1 लाख रुपए डिपॉजिट हैं. तो पिछले वित्त वर्ष में आपको 8.15 फीसदी ब्याज के हिसाब से 8,150 रुपए आपके अकाउंट में आए होंगे. अब इस इंट्रस्ट रेट में इजाफा कर 8.25 फीसदी कर दिया गया है. अगर किसी अकाउंट होल्डर के अकाउंट में 1 लाख रुपए होंगे तो ब्याज के रूप में 8250 रुपए मिल जाएंगे. इसका मतलब है कि ईपीएफ अकाउंट होल्डर को 100 रुपए का फायदा हो जाएगा.

पोर्टल के थ्रू कैसे चेक करें ईपीएफ बैलेंस-

सबसे पहले EPFO पोर्टल www.epfindia.gov.in पर जाना होगा.

उसके बाद आपको E-PassBook ऑप्शन पर क्लिक करना होगा.

नया पेज ओपन होगा और उसमें आपको UAN, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालना होगा और लॉग इन करना होगा.

लॉग इन करने के बाद आपको Passbook के लिए मेंबर आईडी ऑप्शन को चुनना होगा.

जिसके बाद आपको PDF फॉर्मेट में पासबुक मिल जाएगी, जिसे डाउनलोड किया जा सकता है.

वहीं आप https://passbook.epfindia.gov.in/ पर डायरेक्ट पासबुक एक्सेस कर सकते हैं।

EPFO अकाउंट के होते हैं ये फायदे- 
 

आपके पीएफ खाते पर बाय डिफॉल्ट बीमा मिलता है. EDLI (एंप्लॉई डिपॉजिट लिंक्ड इंश्योरेंस) योजना के तहत पीएफ खाते पर 6 लाख रुपये तक का इंश्योरेंस मिलता है. इस योजना के तहत खाताधारक को एक लमसम पेमेंट मिलता है. इसका फायदा किसी बीमारी या एक्सीडेंट और मृत्यु के वक्त लिया जा सकता है.


2. रिटायरमेंट के बाद पेंशन


पीएफ अकाउंट में 10 साल तक रेगुलर पेंशन जमा होने की स्थिति में खाते पर एंप्लॉई पेंशन स्कीम का फायदा मिलता है. यदि कोई खाताधारक 10 साल नौकरी में रहता है और उसके खाते में लगातार राशि जमा होती रहती है तो एंप्लॉई पेंशन स्कीम 1995 के तहत उसे रिटायरमेंट के बाद न्‍यूनतम एक हजार रुपए पेंशन म‍िलती है. हालांक‍ि अब पेंशन फंड को बढ़ाने पर बात चल रही है.

3. निष्क्रिय खातों पर ब्याज मिलेगा


ईपीएफओ ने कुछ साल पहले ही निष्क्रिय खातों पर ब्याज देने का फैसला किया है, पहले ऐसा नहीं था. तीन साल तक जिन खातों में कोई ट्रांजैक्शन न हुआ हो उन्‍हें निष्क्रिय खाते की कैटेगरी में डाल दिया जाता है. जानकारों का कहना है नौकरी बदलते ही अपना पीएफ अकाउंट ट्रांसफर करा लेना चाहिए. ऐसा नहीं करने पर पांच साल से अधिक समय तक खाता निष्क्रिय रहने की स्थिति में विथड्रॉल (निकासी) के वक्त इस पर टैक्स चुकाना होगा.


4. अपने आप ट्रांसफर होगा पीएफ अकाउंट


नौकरी बदलने पर पीएफ का पैसा ट्रांसफर करना अब पहले के मुकाबले आसान है. आधार से लिंक आपके यूनीक नंबर के जरिए आप एक से अधिक पीएफ खातों को एक जगह रख सकते हैं. नई नौकरी ज्वॉइन करने पर ईपीएफ के पैसे को क्लेम करने के लिए फॉर्म-13 भरने की जरूरत नहीं होगी. ईपीएफओ ने प‍िछले द‍िनों नया फॉर्म-11 जारी किया है. इससे आपका पिछला खाता नए खाते में ट्रांसफर हो जाएगा.


5. एक घंटे में अकाउंट में आएगा पैसा


आप कुछ स्थितियों में अपने पीएफ खाते से पैसा निकाल सकते हैं. इस पैसे को आपके अकाउंट में आने में तीन से चार दिन का समय लगता है. लेक‍िन सरकार ने कोरोना महामारी के मद्देजनर नई सुव‍िधा शुरू की है. इसके तहत आवेदन के एक घंटे के अंदर अकाउंट में पैसा आ जाएगा. यह सुव‍िधा मेड‍िकल इमरजेंसी के तहत शुरू की गई है. इसके अलावा आप मकान खरीदने, बच्चों की उच्च शिक्षा या लड़की की शादी के लिए भी पीएफ का पैसा न‍िकाल सकते हैं.