home page

RBI की नौकरी छोड़ शुरू कर दी पढ़ाई, दो बार निकाला UPSC, फिर बनी IAS

आज हम आपको महाराष्ट्र कैडर की 2012 बैच की आईएएस अधिकारी निधी चौधरी की सक्सेस स्टोरी के बारे में बताने जा रहे हैं। जिन्होंने हिंदी मीडियम से अपनी पढ़ाई पूरी की है। आईएएस अधिकारी निधी चौधरी ने दो बार UPSC परीक्षा को क्रेक किया है। 

 | 
RBI की नौकरी छोड़ शुरू कर दी पढ़ाई, दो बार निकाला UPSC, फिर बनी IAS 

HR Breaking News (ब्यूरो)। ये हैं महाराष्ट्र कैडर की 2012 बैच की आईएएस अधिकारी निधी चौधरी. रिपोर्ट्स के अनुसार वह महाराष्ट्र के नागपुर जिले की रहने वाली हैं. निधि हमेशा से ही पढ़ाई में अव्वल रही हैं. उन्होंने हिंदी मीडियम स्कूल से अपनी स्कूली पढ़ाई लिखाई पूरी की है।

इसके बाद उन्होंने बीए से ग्रेजुएशन पूरा किया है. जानकारी के अनुसार उन्होंने ग्रेजुएशन के दौरान अपने कॉलेज में टॉप भी किया था. फिर उन्होंने लोक प्रशासन और ग्रामीण विकास से एमए की डिग्री भी हासिल की. उन्होंने आरबीआई ग्रेड बी परीक्षा भी क्लियर की है और कुछ समय तक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में मैनेजर के पद पर काम किया है।

इसी दौरान उनकी शादी हुई थी. उनके जीवन में बड़ा मोड़ तब आया जब उनकी बहन विधी चौधरी आईपीएस बनीं. रिपोर्ट्स के अनुसार उन्होंने यूपीएससी 2008 की परीक्षा में 285वीं रैंक हासिल की थी. इससे प्रेरित होकर निधि ने भी यूपीएससी देने का निर्णय लिया।

वह आरबीआई की नौकरी छोड़ परीक्षा की तैयारी में लग गईं. पढ़ाई में वह हमेशा से होनहार रही हैं, लिहाजा उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में परीक्षा क्लियर भी कर ली. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उन्होंने यूपीएससी 2010 की परीक्षा में 678वीं रैंक हासिल की थी और आईएएएस की पोस्ट पाई।

लेकिन वह आईएएस बनना चाहती थीं, इसलिए दोबारा से प्रयास किया. दूसरी बार में उन्होंने यूपीएससी में 145वीं रैंक पाई और आईएएस की पोस्ट हासिल की. बतौर आईएएस वह रायगड़, मुम्बई सबअर्बन में कलेक्टर समेत राज्य सरकार में कई अहम पदों पर जिम्मेदरी निभा चुकी हैं।