home page

IPS Success Story : छोटी उम्र में शादी से छूट गई पढ़ाई, फिर दोबारा से शुरू कर बनी IPS अफसर, आपको भी मोटिवेट करेगी इस महिला अफसर की कहानी

UPSC IPS Success Story : सफलता की कहानी तो आपने बहुत सुनी होगी लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे है एक ऐसी महिला की कहानी जो हर किसी को प्रेरणा देने वाली है, आइए खबर में जानते है आईपीएस एन अंबिका के बारे में विस्तार से। 

 | 
IPS Success Story : छोटी उम्र में शादी से छूट गई पढ़ाई, फिर दोबारा से शुरू कर बनी IPS अफसर, आपको भी मोटिवेट करेगी इस महिला अफसर की कहानी

HR Breaking News, Digital Desk - मुश्किल नहीं है कुछ अगर ठान लीजिए ये वाक्य तमिलनाडु की रहने वाले महिला आईपीएस एन अंबिका (N. Ambika) पर बिलकुल सटीक बैठता है. आज हम आपको यूपीएससी सक्सेस स्टोरी में आईपीएस अधिकारी एन. अंबिका की कहानी बताने जा रहे हैं, जिन्होंने कई मुश्किल हालातों का सामना करते हुए आईपीएस (IPS) बनकर दिखाया.  

तमिलनाडु (Tamil Nadu) की रहने वाली एन अंबिका की महज 14 साल की उम्र में ही शादी कर गई थी. 18 साल की उम्र आते-आते तो वह दो बच्‍चों की मां भी बन गईं थी. फिर एक दिन अचानक एक ऐसी घटना घटी की एन. अम्बिका ने आईपीएस अधिकारी बनने की ठान ली और अपनी जिद को हकीकत में तब्दील भी कर के दिखाया. दरअसल, अम्बिका के पति पुलिस में कांस्टेबल के पद पर तैनात थे. एक बार गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर अम्बिका भी परेड देखने गई थीं, जहां उन्होंने अपने पति को उनसे उच्ची रैंक वाले अफसरों को सैल्यूट करते देखा. घर वापस आने पर उन्होंने इस बारे में अपनी पति से पूछा तो उनके पति ने बताया कि वो मेरे उच्‍च अधिकारी थे.

चेन्नई में रहकर की तैयारी


बातों-बातों में उनके पति ने अम्बिका को आईपीएस अधिकारी (IPS Officer) से जुड़ी सभी जानकारी प्रदान की, जिसके बाद अम्बिका ने अपनी पढ़ाई को दोबारा शुरू करने का फैसला लिया और 10वीं की परीक्षा पास की. फिर उन्होंने डिस्टेंस लर्निंग से 12वीं और ग्रेजुएशन किया और यूपीएससी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी. लेकिन वह जिस जगह रहती थी, वहां पर यूपीएससी की तैयारी के लिए कोई भी व्यवस्था नहीं थी. जिसके बाद अम्बिका ने चेन्नई में रहकर यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करने का फैसला लिया.

कई बार मिली असफलता


यूपीएससी की परीक्षा को पास करने के लिए अम्बिका ने दिन रात एक कर के पढ़ाई की मगर उन्हें तीन प्रयासों में असफलता ही हाथ लगी. तीन असफलताओं के बाद भी अंबिका ने हार नहीं मानी और अपने लक्ष्य से नहीं डिगी.  फिर उन्होंने वर्ष 2008 में अपना चौथा प्रयास किया और इस बार उन्हें यूपीएससी एग्जाम में सफलता मिली. जिसके बाद आईपीएस अधिकारी बन गईं.