home page

Alcohol Fact : रोजाना शराब पीने से शरीर में होते हैं ये 5 बदलाव, पीने वाले भी नहीं जानते ये बात

Alcohol Fact : यह तो शराब पीने वाला हर व्यक्ति जानता है कि यह हमारे शरीर के लिए बहुत हानिकारक होती है। और अगर आप भी रोजाना शराब का सेवन करते है तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि हर रेज शराब पीने से आपके शरीर में क्या बदलाव आते हैं और इसका शरीर पर किस तरह का प्रभाव पड़ता है। शराब पीने वाले जरूर जान लें ये बात....
 | 
Alcohol Fact : रोजाना शराब पीने से शरीर में होते हैं ये 5 बदलाव, पीने वाले भी नहीं जानते ये बात

HR Breaking News, Digital Desk - Alcohol Fact : शराब पीने के बाद शख्स डांस करने लगता है। शराब पीने के बाद कुछ समय तक तो कुछ नहीं होता है, लेकिन कुछ समय बाद शराब पीने वाले व्यक्ति की आवाज और व्यवहार में बदलाव आने लगता है। कुछ समय बाद उसकी चाल भी बदलने लगती है और वह अपने शरीर पर नियंत्रण खोने लगता है। क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है और कुछ समय बाद अल्कोहल का स्तर क्यों बढ़ने लगता है? आइए आज जानते हैं कि शराब शरीर में जाने पर क्या परिवर्तन होते हैं और इसका आपके शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है?

जैसे ही पहला घूंट पीते ही शराब शरीर में प्रवेश करती है, उसी क्षण से शरीर पर इसका असर शुरू हो जाता है। जब शराब शरीर में पहुंचती है तो सबसे पहले यह पेट में गैस्ट्रिक एसिड (produces gastric acid in the stomach) पैदा करती है और पेट की म्यूकस लाइन में सूजन पैदा करती है। इसके बाद आंतें एल्कोहल सोखना शुरू करती हैं और उसके बाद ये विंग के जरिए लीवर तक पहुंचता है। लिवर के बहुत करीब होने के कारण इस बात की संभावना ज्यादा होती है कि एल्कोहल पेट से सीधे लिवर में पहुंच जाता है।

दिमाग पर असर:

रिपोर्ट के मुताबिक, इसके बाद लीवर अपना काम शुरू करते हुए बहुत सारे एल्कोहल को नष्ट कर देता है और शरीर पर होने वाले इस प्रभावों को भी कम करने का काम करता है। लेकिन, जिन तत्वों को लीवर तोड़ नहीं पाता है वो तत्व सीधे दिमाग तक पहुंच जाते हैं। ऐसे में कुछ ही मिनटों में दिमाग पर शराब का असर होने लगता है।

तंत्रिका तंत्र पर प्रभाव:

शरीर में जाने के बाद एल्कोहल (Alcohol) केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को भी बहुत प्रभावित करता है। यह मस्तिस्क का तंत्रिका तंत्र से कनेक्शन तोड़ता है, जिसके बाद ये कोशिकाएं बहुत सुस्ती से काम करने लगती हैं. फिर मस्तिष्क अपने आप ही इस परिस्थिति से निपट नहीं पाता है. एल्कोहल मस्तिष्क के सेंटर पार्ट भी हमला करता है और व्यक्ति का खुद पर से कंट्रोल खोने लगता है। लंबे समय तक ऐसा चलने पर व्यक्ति की याददाश्त पर भी बुरा असर पड़ता है।

लिवर पर पड़ता है बुरा असर:

शराब पीने से लीवर पर (bad effect on liver) काफी बुरा असर पड़ता है और लीवर अपना काम ठीक से नहीं कर पाता है। खास बात ये है कि लीवर में दिक्कत होने का पता नही चलता ना ही दर्द होता है और शराबी को पता नहीं लगता है कि उसे क्या दिक्कत है। इसका पता तभी लग पाता है जब जांच के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं। इसलिए ज्यादा एल्कोहल पीने वाले लोगों को ऐसी जांच करवाते रहना चाहिए।

एसिडिटी की समस्या:

शराब पीने से लीवर के साथ-साथ अग्न्याशय की कार्यप्रणाली भी बिगड़ने लगती है जिसके कारण शराब पीने वाले व्यक्ति को एसिडिटी (Alcohol drinkers have acidity problems) की समस्या होने लगती है।

किडनी पर असर:

शराब का किडनी पर भी बुरा असर पड़ता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, शराब पीने से मस्तिष्क के हार्मोन प्रभावित होते हैं जो किडनी को अधिक मात्रा में मूत्र उत्पन्न करने से रोकते हैं। इसी वजह से शराब पीने के बाद बार-बार पेशाब करने की जरूरत महसूस होती है। अगर ऐसी स्थिति लंबे समय तक बनी रहे तो किडनी भी खराब हो सकती है।