home page

Relationship Tips : एक अच्छे रिलेशनशिप की होती है ये 5 पहचान, आपको भी जानना चाहिए

Relationship Tips for couple : यह तो सच हैं कि जब दो लोगों का रिश्ता नया हाता हैं। तो दोनों में बहुत प्यार होता हैं। और उन्हें अपने रिलेशनशिप में सबकुछ बहुत प्यारा-प्यारा लगता है। और इतना ही नहीं वह अपने पार्टनर की पसंद नापसंद को अपनाने के साथ ही लोग रिश्ते को बेहतर और मजबूत बनाने की कोशिश करते हैं। हालांकि कई बार उन्हें ये पता नहीं चल पाता कि क्या उनका रिश्ता सही दिशा में है। तो ऐसे में आज हम आपको एक अच्छे रिलेशनशीप की 5 निशानियां बताने जा रहे है। जानिए....
 | 

HR Breaking News (नई दिल्ली)। प्यार एक ऐसा रिश्ता है जिसे निभाना ना आसान होता है और ना बहुत ज्यादा मुश्किल। बेहद मजबूत होते हुए भी इस रिश्ते की डोर अक्सर टूट जाया करती है और चाहते हुए भी टूटे रिश्ते जोड़ पाना कठिन हो जाता है। लेकिन, वक्त रहते की गई कोशिशें कभी जाया नहीं होतीं। अपने रिश्ते (Relationship tips) की इमारत को प्यार, भरोसे और विश्वास की नींव पर खड़ा कीजिए और इसकी हर एक ईंट इतनी मजबूत लगाइए कि कभी रिश्ता टूटे ही ना।


अगर आप अपने बॉयफ्रेंड को काफी समय से डेट कर रहे हैं और आप दोनों के बीच काफी अच्छी केमिस्ट्री है। इसके बावजूद अगर आपको समझ नहीं आ रहा कि आपका रिश्ता किस ओर जा रहा है? क्या वह इस रिश्ते को आगे ले जाने के लिए तैयार हैं? आपका पार्टनर आपसे क्या चाहता है? ये कुछ ऐसे सवाल हैं जिनके जवाब के बिना किसी रिश्ते को मजबूत बनाना मुश्किल है। ये 5 टिप्स आपके रिश्ते को मजबूत (relationship tips for husband wife) बना सकते हैं।

वो आपका परिचय अपनी गर्लफ्रेंड के तौर पर देते हैं:

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि साइकॉलजिस्ट और काउंसलर मालिनी शाह कहती हैं कि आमतौर पर पुरुष बहुत जल्दी कमिटमेंट (commitment in love) के लिए तैयार नहीं होते। ऐसे में अगर आपका बॉयफ्रेंड अपने दोस्तों के सामने आपको अपनी गर्लफ्रेंड के तौर पर इंट्रोड्यूस करवाते हैं तो इसका मतलब ये है कि वो आपके साथ कंफर्टेबल हैं और अपनी जिंदगी में आपकी अहमियत को समझते हैं। ये अनुभव अक्सेप्टेंस और कमिटमेंट को दर्शाता है।

बड़े झगड़े के बाद भी आप एक हो जाते हैं:

क्लिनिकल साइकॉलजिस्ट की मानें तो जीवन भर के लिए रिश्ते तभी मजबूत (strong bond between couple) होते हैं जब आपके बीच कितने ही बड़े झगड़े और बहस क्यों ना हो, आप दोनों उस झगड़े का हल निकालकर समझौता कर फिर से एक हो जाते हैं।


आप किसी बात पर अपनी असहमति जताती हैं:

साइकॉलजिस्ट के अनुसार रिश्ते का पहला फेज़ बेहद आकर्षक और सुहाना होता है। समस्याएं तब शुरु होती हैं जब आप किसी बात पर अपनी असहमति जताती (relationship tips) हैं। ऐसी परिस्थिति में आप चाहती हैं कि आपका पार्टनर आपको वैसे ही स्वीकार करे जैसे आप हैं और बदले में आपको भी बिल्कुल ऐसा ही करना चाहिए।


आपको उनकी अहमियत का अहसास होता है:

ये एक अद्भुत अनुभव है जब आपको इस बात का अहसास होता है कि भले ही अपने परिवारवालों की तुलना में अपने पार्टनर (feeling of love) के साथ बिताया गया आपका समय कम हो लेकिन संतुष्टि इस रिश्ते में ज्यादा होती है। जब आपको इस बात का अहसास होने लगता है कि एक दूसरे के साथ बिताया गया आपका समय सबसे अहम है तो इसका मतलब ये है कि आप अपने रिश्ते को आगे ले जाने के लिए तैयार हैं।

एक साथ करते हैं मुश्किल का सामना:

इसमें एक साथ होने का मतलब है हर परिस्थिति में साथ होना। अच्छे समय में भी और बुरे वक्त में भी। फिर चाहे परेशानी पैसों को लेकर हो, नौकरी को लेकर या कोई पारिवारिक समस्या।।अगर इस तरह की हर परिस्थिति में आपका पार्टनर आपके साथ (Partner's support in every situation) है तो इसका मतलब है कि वो आपको लेकर कमिटेड है।