home page

Wine Beer : खाने से पहले या बाद में, कब करना चाहिए शराब का सेवन, एक्सपर्ट से जानिए

Alcohol Fact: शाम होते होते ही शराब के शौकीन लोग चाहे मयखानों में हों या घर पर या फिर किसी पार्टी में, उनका जाम छलकाने का सिलसिला शुरू हो जाता है, बहुत से लोग शराब का सेवन करते हैं। अगले दिन अपने जरूरी काम को भूलकर लोग देर रात तक पीते रहते हैं। भोजन करने के बाद शराब पीना सही है या खाली पेट? जानिए।
 | 
Wine Beer : खाने से पहले या बाद में, कब करना चाहिए शराब का सेवन, एक्सपर्ट से जानिए

HR Breaking News, Digital Desk - शराब पीने वाले ज्यादातर लोग जानते हैं कि शराब इंसान के सोचने, महसूस करने और कार्य करने की क्षमता को प्रभावित करती है। चाहे कोई फंक्शन हो या दोस्तों के साथ कोई मुलाकात, शराब उसमें शामिल होती है, लेकिन शराब पीने से पहले भोजन करना चाहिए या बाद में, यह सदियों पुराना सवाल कई लोगों को हैरान कर देता है। मिक्सोलॉजिस्ट नितिन तिवारी ने इस बारे में अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर बात की। एक इंस्टाग्राम पोस्ट में उन्होंने शरीर में शराब के अवशोषण के पीछे के विज्ञान के बारे में बताया और बताया कि कैसे शराब दिमाग और शरीर पर अपना प्रभाव छोड़ती है।


अल्कोहल एब्जॉप्शन को समझना


नितिन तिवारी बताते हैं, "जब हम शराब का पहला घूंट लेते हैं, तो यह सबसे पहले पेट में पहुंचती है। अगर हमने शराब पीने से पहले कुछ खाया है, तो पेट भोजन को तोड़ने में व्यस्त रहता है। जिसकी वजह से शराब पेट में ही रह जाती है।"


पेट की भूमिका


पेट शराब को एब्जॉब करता है लेकिन छोटी आंत की तुलना में धीमी गति से। इसका मतलब यह है कि अगर हमने कुछ भी नहीं खाया है, तो शराब तेजी से पेट से गुजरती है और छोटी आंत तक पहुंच जाती है, जिसका सरफेस एरिया बड़ा होता है, जिससे शराब ब्लड फ्लो में तेजी से एब्जॉर्ब हो जाती है।
 

शराब का प्रभाव


जैसे ही शराब ब्लड फ्लो में प्रवेश करती है, ये हार्ट और ब्रेन तक जाती है, जहां यह अपना नशीला प्रभाव छोड़ती है। अगर आप खाली पेट पीते हैं, तो शराब पेट के लंबे प्रोसेसिंग समय को दरकिनार कर देती है और सीधे छोटी आंत में पहुंच जाती है। इसका मतलब यह है कि शराब तेजी से एब्जॉर्ब हो जाती है और हमें तेजी से नशा देती है।
 

खाली पेट शराब पीना


खाली पेट शराब पीने से शराब का असर बढ़ जाता है। पेट में खाना न होने की वजह से एब्जॉर्प्शन रेट तेज हो जाती है, जिससे अल्कोहलिक इफेक्ट तेज हो जाता है। यह बताता है कि जो लोग पहले से कुछ खाए बिना शराब का सेवन करते हैं, वे अक्सर इसके प्रभावों को अधिक तीव्रता से अनुभव करते हैं और तेजी से नशे में आ जाते हैं।
 

भरे पेट शराब पीना


शराब पीने से पहले भोजन करने से अनुभव में काफी बदलाव आ सकता है। भोजन एक सुरक्षात्मक बाधा के रूप में कार्य करता है, जो छोटी आंत में शराब के अवशोषण को धीमा कर देता है। एब्जॉर्प्शन प्रक्रिया में देरी करके, भोजन का सेवन प्रभावी ढंग से ब्लड फ्लो में अल्कोहल की तेजी से वृद्धि को कम करता है। इसका मतलब यह है कि अगर आप शराब पीने से पहले भोजन करते हैं, तो आप लंबे समय तक अपने अल्कोहलिक बेवरेज के जरिए इसके इफेक्ट का आनंद ले सकते हैं।
 

बैलेंस बनाना


हालांकि शराब के एब्जॉर्प्शन पर भोजन के प्रभाव पर विचार करना जरूरी है, लेकिन बैलेंस बनाना भी उतना ही जरूरी है। खाली पेट शराब पीने से नशा तेज हो सकता है जबकि शराब से पहले भोजन करने से इसके प्रभाव को धीमा करने में मदद मिल सकती है। भोजन का आनंद लेने और अल्कोहलिक बेवरेज का स्वाद लेने के बीच संतुलन बनाना एक जिम्मेदार और आनंददायक ड्रिंक के अनुभव की कुंजी है। अंत में, चुनाव आपका है।


लेकिन अगर आप हेल्थ एक्सपर्ट्स के सुझावों पर ध्यान देते हैं, तो पीने से पहले कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन का हल्का भोजन और पीने के दौरान हल्का स्नैक्स लेना अगले दिन के कष्टप्रद हैंगओवर से बचने के लिए आइडियल है।


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। एचआर ब्रेकिंग न्यूज इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।