home page

UP-Bihar के लिए खोजा गया गेहूं का खास बीज, अब होगी बंपर पैदावार

UP Bihar - यूपी और बिहार के किसानों के लिए अच्‍छी खबर। बता दें कि अब गेंहू की फसल बोने वालों को नुकसान होने की आशंका कम रहेगी। दरअसल अब किसानों को इस नुकसान से बचाने के लिए गेहूं का खास बीज खोजा गया है। इसकी खासियत यह है कि सामान्‍य गेंहू के मुकाबले इसका दाना काफी बड़ा है, जिससे किसानों को अच्‍छी कीमत मिल सकती है...
 | 
UP-Bihar के लिए खोजा गया गेहूं का खास बीज, अब होगी बंपर पैदावार

HR Breaking News, Digital Desk- New wheat seed for UP Bihar. उत्‍तर प्रदेश और बिहार के किसानों के लिए अच्‍छी खबर है. अब गेंहू की फसल बोने वालों को नुकसान होने की आशंका कम रहेगी. किसानों को इस नुकसान से बचाने के लिए इंडियन एग्रीकल्‍चर रिसर्च इंस्‍टीट्यूट (आरएआरआई-पूसा) ने गेंहू की नई वैराइटी खोजी है, जो इस वर्ष पहली बार किसानों को मिलेगा. इस तरह यूपी और बिहार के गेंंहू बोने वाले किसानों की बल्‍ले-बल्‍ले हो जाएगी.

 

 

 

 

पूसा के वरिष्‍ठ वैज्ञानिक और गेंहू के नए बीज की रसिर्च करने वाले डा. राजबीर यादव ने बताया कि उत्‍तर प्रदेश और बिहार गेंहू की फसल बोने वाले किसान नुकसान की वजह से परेशान रहते हैं, कभी फसल में बीमारी लग गयी तो कभी समय से पहले ही तापमान बढ़ गया या अन्‍य कई वजह होती हैं, जिससे खामियाजा किसानों को उठाना पड़ता है.

किसानों की इस तरह की समस्‍या से राहत दिलाने के लिए दोनों प्रदेशों की जलवाऊ के अनुसार पूसा ने एचडी 3388 बीज खोजा गया है. इसकी खासियत यह है कि सामान्‍य गेंहू के मुकाबले इसका दाना काफी बड़ा है, जिससे किसानों को अच्‍छी कीमत मिल सकती है. इसके अलावा इसमें बीमारी लगने की आशंका भी कम रहेगी. इस तरह नया बीज किसानों के लिए वरदान साबित होगा.

नए बीज से गेंहू की पैदावार भी बढ़ेगी. डा. राजबीर यादव के अनुसार इसकी पैदावार 6 टन प्रति हेक्‍टेयर तक होगी. इसका दाना साफ होगा और खाने में सामान्‍य गेंहू की तुलना में बेहतर स्‍वाद वाला होगा.

बीज को किसानों तक पहुंचाने के लिए पूसा यूपी और बिहार की बीज कंपनियों के साथ एमओयू साइन करेगा, जिसके बाद किसानों को इन्‍हीं कंपनियों के आउटलेट पर बीज उलब्‍ध होगा. बिहार में रहने वाले किसान पूसा बिहार से भी बीज ले सकते हैं. इसके अलावा राष्‍ट्रीय बीज निगम के आउटलेट से भी बीज लिया जा सकता है. इस तरह बीज के लिए भी किसानों को इधर उधर भटकना नहीं होगा.