home page

Delhi-NCR में इन कॉलोनियों में चलेगा बुलडोजर, गिराए जाएंगे 5000 से ज्यादा निर्माण, प्रोपर्टी खरीदने वाले भी हो जाएं सावधान

Delhi-NCR - अगर आप भी दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं तो आपके लिए जरूरी खबर है। दिल्ली एनसीआर में अवैध निर्माण को लेकर सख्ती शुरू होने वाली है। इन इलाकों में भूमाफियों के अवैध कॉलोनियों पर बुलडोजर चलना शुरू हो गया है। कहा जा रहा है कि पांच हजार से ज्यादा निर्माण गिराए जाएंगे...
 | 
Delhi-NCR में इन कॉलोनियों में चलेगा बुलडोजर, गिराए जाएंगे 5000 से ज्यादा निर्माण

HR Breaking News, Digital Desk- Illegal Colonies in Delhi-NCR. दिल्ली-एनसीआर में अवैध निर्माण को लेकर सख्ती शुरू होने वाली है।  खासकर दिल्ली से सटे गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, हापुड़, बुलंदशहर जैसे इलाकों में सख्ती शुरू भी हो गई है। 

 

 

 

इन इलाकों में भूमाफियों के अवैध कॉलोनियों पर योगी सरकार का बुलडोजर (Bulldozer) चलना शुरू हो गया है। वहीं, फरीदाबाद, पूर्वी दिल्ली के कुछ इलाके, दादरी, ग्रेटर नोएडा और नोएडा के कुछ अवैध कॉलोनियों पर भी बुलडोजर चलने का खतरा और बढ़ गया है।  ऐसे में अगर आप इन इलाकों में भूमाफिया द्वारा बसाई गई अवैध कॉलनियों में घर, जमीन, मकान, फ्लैट या दुकान खरीदने का प्लान कर रहे हैं तो आप सतर्क हो जाएं।

आपको मकान खरीदने से पहले संबंधित प्राधिकरण से प्रॉपर्टी के बारे में जानकारी लेनी चाहिए। बात दें कि यूपी में योगी सरकार ने सभी प्राधिकरण के अधिकारियों को इस बारे में रिपोर्ट तैयार कर कार्रवाई करने का आदेश जारी किए हैं।

 

 

 

दिल्ली-एनसीआर के गाजियाबाद, ग्रेटर नोएडा और दादरी जैसे इलाके में पिछले कुछ सालों से अवैध कॉलोनियों की बाढ़ आ गई है। यहां भूमाफिया हर दिन इन इलाकों में अवैध तरीके से जमीन काट कर बेच रहे हैं और यहां धीरे-धीरे कॉलनियां बस जा रही हैं। 

उदाहरण के तौर पर बुलंदशहर विकास प्राधिकरण दादरी तहसील के कैमराला चक्रसेनपुर गांव में टाउनशिप बसाने की योजना बना रहा है, लेकिन इस भूमाफियाओं ने इस गांव में अवैध कॉलनी काट दी है। यहां पर सैकड़ों मकान बन गए हैं। ऐसे में प्रशासन के सामने अब चुनौती है कि इन मकानों को कैसे खाली कराया जाए। 

वसुंधरा में 5000 से अधिक अवैध निर्माण
इसी तरह गाजियाबाद के कई इलाकों में अवैध निर्माण के कई मामले गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के सामने रोजाना आ रहे हैं. हाल ही में आवास विकास परिषद के एक सर्वे रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि यहां 5000 से अधिक अवैध निर्माण हुए हैं. 90 के दशक में वसुंधरा योजना को विकसित किया गया था. यहां ग्रुप हाउसिंग, एकल भवन और भूखंड की बिक्री की गई थी. दिल्ली से नजदीक होने के कारण हर कोई यहां मकान लेना चाहता था.

इन 20 वर्षों में इस इलाके में इमारतों का जाल बिछ गया है. बिल्डरों ने अपने फायदे के अनुसार नक्शा में गड़बड़ी कर मकान बना डाला. जहां तीन मंजिला मकान बनाने की इजाजत थी, वहां कई मंजिला इमारत बन गई. आवास विकास परिषद की एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है.

गाजियाबाद में नक्शे के विपरीत निर्माण के बाद अब प्रशासन ने सख्ती दिखाना शुरू कर दिया है. बीते कुछ दिनों से गाजियाबाद के इलाकों में प्राधिकऱण की टीम अवैध कॉलिनियों में बुलडोजर चला रही है. गाजियाबाद के मुरादनगर क्षेत्र के सैथली में बसाई जा रही अवैध कॉलनियों पर बुलडोजर चलाया गया है. इसी तरह वसंतपुर गांव में भी बुलडोजर चला। 

वहीं MCD के 12 जोनों में अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलेगा। दिल्ली नगर निगम के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दक्षिणी दिल्ली, नजफगढ़, नरेला, सिविल लाइन जोन में बड़े पैमाने पर अवैध निर्माण किए गए हैं जिन्हें जल्द ध्वस्त किया जाएगा। बड़े अधिकारियों ने बिल्डिंग विभाग इंजीनियरों से अवैध निर्माण की लिस्ट मंगवाई है और संबंधित थाने को फोर्स उपलब्ध कराने के लिए भी पत्र लिखा है। 


यहां की जाएगी तोड़ फोड़


साउथ दिल्ली के कई पॉश इलाकों में MCD का बुलडोजर चल रहा है। एमसीडी बिल्डिंग विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि सिविल जोन स्थित बुराड़ी एक ऐसा इलाका है जहां पर एग्रीकल्चरललैंड पर अवैध निर्माण के काफी मामले एमसीडी के पास आए हैं। अनधिकृत कॉलोनी में अवैध निर्माण किए गए है आने वाले दिनों में वहां भी MCD का बुलडोजर चलेगा।  बुराड़ी के अलावा भलस्वा डेरी सब्जी मंडी मुखर्जी नगर तिमारपुर और स्वरूप नगर में भी अवैध निर्माण गिराए जाएंगे।