home page

Home Loan : अगर आप कर्ज के जाल में फंस गए हैं तो ये Tips आपना लीजिए! हो जाएंगे कर्ज मुक्त

अगर आप भी भारी भरकम EMI के बोझ या कर्ज तले दबे हैं तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे टिप्स जो आपको कर्ज की दलदल से निकालकर कामयाबी की राह की ओर ले जाएंगी। पढ़िए विस्तृत रिपोर्ट।
 | 
Home Loan : अगर आप कर्ज के जाल में फंस गए हैं तो ये Tips आपना लीजिए! हो जाएंगे कर्ज मुक्त

HR Breaking News : नई दिल्ली : कर्ज (Debt) सुनने में ये नाम जितना छोटा लगता है, इसका दायरा उतना ही बड़ा होता है. इसके जाल में फंसे इंसान का आसानी से निकलना मुश्किल होता है।
किसी आपात स्थिति या किसी अन्य वजह से अगर कर्ज लेने के बाद वित्तीय संकट (Financial Crisis) पैदा होता है, तो फिर क्रेडिट कार्ड (Credit Card) के बिल, कार या होम लोन (Home Loan) और दूसरे कर्जों की ईएमआई (EMI) चुकाना भी कठिन हो जाता है. इन कारणों से व्यक्ति कर्ज के जाल में फंसते चले जाते हैं।

ये खबर भी पढ़ें : Business News : गलत अकाउंट में ट्रांसफर हो जाए पैसा तो ये तरीका अपनाएं, तुरंत आ जाएंगे वापस

कर्ज बन जाता है बड़ी परेशानी

आज के समय में अपने सपनों का घर बनाना हो, बच्चों को अच्छी शिक्षा मुहैया कराना हो या फिर वाहन खरीदना. किसी न किसी काम के लिए कर्ज या लोन (Loan) लेने की जरूरत पड़ ही जाती है। लेकिन कभी-कभी यही कर्ज बड़ी परेशानी भी बन जाता है।
अगर आपके सामने ऐसी परिस्थिति आ जाए, तो घरबराएं नहीं, बल्कि कर्ज के जाल से बाहर निलकने के लिए कुछ टिप्स (Tips) का ध्यान रखें। जो आपके लिए बेहद मददगार साबित हो सकते हैं।

ये खबर भी पढ़ें : Business Idea : महज 10 हजार में शुरू करें ये बिजनेस, लाखों की होगी कमाई

आपके सिबिल पर ऐसे पड़ता है असर

एक बार कर्ज के जाल में फंसने के बाद आपके पास नया कर्ज लेकर पुराने लोन को चुकाने रास्ता भी नहीं होता, क्योंकि ईएमआई (EMI) भुगतान में चूक का बुरा असर आपके सिबिल स्कोर (Cibil Score) पर भी पड़ता है।

आपकी सिबिल रिपोर्ट खराब होने के कारण दूसरा लोन मिलना बेहद मुश्किल हो जाता है. बता दें कि कोई भी बैंक या कर्जदाता आपका लोन पास करने से पहले आपके सिबिल स्कोर की जांच करता है।


पेंडिंग बिलों के भुगतान की रणनीति बेहद समझदरी


आप कर्ज के जाल में बुरी तरह से फंस गए हैं, तो अपने लोन और पेंडिंग बिलों के भुगतान की रणनीति बेहद समझदारी से बनाएं. अपने सभी बकाया कर्जों की एक लिस्ट तैयार करें, फिर तय करें कि सबसे पहले आपको कौन सा कर्ज खत्म करना चाहिए. आप पर मौजूद सभी तरह के कर्ज को प्राथमिकता के आधार पर बांट लें।

रणनीति यह होनी चाहिए कि सबसे बड़े और ज्यादा ब्याज दर (Interest Rate) वाले कर्ज का भुगतान सबसे पहले हो। जैसे क्रेडिट कार्ड लोन या बिल।
अगर आप वित्तीय संकट में हैं और मौजूदा कर्ज की किस्त का भुगतान करने में भी सक्षम नहीं हैं, तो ऐसे समय में आप अपने बैंक के अधिकारियों को अपने अपनी मौजूदा आर्थिक हालात के बारे में बताएं। इसके साथ ही उनसे कर्ज चुकाने के लिए अतिरिक्त समय मुहैया कराने की मांग करें। इस तरह आप ईएमआई का दबाव कम कर पाएंगे। साथ ही अधिक समय मिलने से आप कमाई के लिए और विकल्प की खोज कर सकेंगे।


वित्तीय संकट में ये चीजें करेंगे आपकी मदद


कर्ज में फंस जाने पर अगर कहीं से दूसरा कर्ज नहीं मिल रहा तो ऐसे समय में आपकी अचल संपत्ति गहराए वित्तीय संकट से निपटने में मदद कर सकती है। आप अपनी बचत का इस्तेमाल भी कर्ज चुकाने के लिए कर सकते हैं। प्रॉपर्टी को बंधक रखकर या फिर कुछ हिस्सा बेचकर बड़े लोन को चुकता कर कर्ज के जाल से बाहर निकल सकते हैं। अगर आपने शेयर (Stocks) में निवेश किया है, तो इनकी मदद से कर्ज संकट से छुटकारा पा सकते हैं।
कर्ज से बाहर निकलने के लिए उपाय के तौर पर आप गोल्ड लोन (Gold Loan) का विकल्प भी चुन सकते हैं. इसके तहत आप सोने के आभूषणों व सिक्कों के बदले आसानी से कर्ज ले सकते हैं। यह आपकी संपत्ति के इस्तेमाल का सबसे बेहतर और तेज विकल्प है. इस तरह के कर्ज पर करीब आठ से 15 फीसदी सालाना का ब्याज जरूर देना होता है। इसलिए अगर आपके ऊपर ऊंची ब्याज दर वाला कोई लोन है, तो इसका इस्तेमाल करके उसे चुका सकते हैं।