home page

Business Idea: कम कमाई में नहीं चल रहा घर खर्चा तो शुरू करें ये बिजनेस होगा लाखों का मुनाफा

Business Idea: अगर आप पशुपालन के क्षेत्र में काम करना चाहते हैं तो बकरी पालन आपके लिए फायदे का सौदा हो सकता है और आप इससे अच्छी कमाई भी कर सकते हैं. इसका उदाहरण पेश किया है बांका जिले के अमरपुर प्रखंड अंतर्गत सुल्तानपुर गांव निवासी तनवीर ने.जो बकरी पालन कर अपनी किस्मत बदल रहे हैं. कहा जा रहा है कि जैसे-जैसे भैंस और गाय जैसे बड़े जानवरों की कीमत बढ़ रही है.आइए जानते है इसके बारे में विस्तार से.

 | 
Business Idea: कम कमाई में नहीं चल रहा घर खर्चा तो शुरू करें ये बिजनेस होगा लाखों का मुनाफा

HR Breaking News (नई दिल्ली)। पशुपालकों का ध्यान अब छोटे जानवरों की ओर जा रहा है। छोटे जानवरों को पालने में लागत कम आती है और मुनाफा ज्यादा होने की गुंजाइश रहती है. तनवीर बताते हैं कि एक बकरी पर रोजाना 12 से 15 रुपये का खर्च आता है, जिससे साल भर में 10 हजार रुपये से ज्यादा की कमाई हो जाती है.


तनवीर बताते हैं कि अगर आप क्रॉस ब्रीड की बकरियां पालते हैं तो चराने का झंझट नहीं रहता, यहां तक कि कई लोग छत पर भी ऐसी नस्ल की बकरियां पाल सकते हैं। वह बताते हैं कि यह टैप सिरोही और ब्लैक बंगाल की संकर नस्ल है जो दिखने में सुंदर होती है और साल में दो से पांच बच्चों को भी जन्म देती है, जिससे अच्छा मुनाफा होता है।


तनवीर बताते हैं कि पहले वह कोलकाता में रहते थे और एक जनरल दुकान चलाकर अपना भरण-पोषण करते थे, लेकिन उससे अच्छी आमदनी नहीं होने के कारण उन्हें लगा कि उन्हें कुछ अलग करना चाहिए और कई लोगों से सलाह लेने के बाद उन्होंने सोचा कि क्यों न ऐसा किया जाए बकरी पालन.


इसके बाद उनकी मुलाकात अमरपुर कृषि कार्यालय के किसान सलाहकार जय राम चौधरी से हुई और उन्होंने कहा कि अगर आप बकरी पालन करेंगे तो आपको इससे बेहतर मुनाफा मिलेगा. इसके बाद उन्होंने करीब 2 लाख रुपये की लागत से 12 सिरोही नस्ल की बकरियां खरीदीं और बकरी पालन शुरू किया. शुरुआत में बकरियों के मरने से नुकसान हुआ तो मैंने सोचा कि इसे छोड़ देना चाहिए, लेकिन हिम्मत करके 7 बकरियों से शुरुआत की और आज हमारे पास 51 से ज्यादा बकरियां हैं. हमारे पास 25 बकरियां हैं जिनके सालाना 100 से अधिक बच्चे होते हैं। हमारा सालाना टर्नओवर 8 लाख रुपये से ज्यादा है.


तनवीर कहते हैं कि बकरियों में सर्दी की बीमारी बहुत गंभीर होती है. जिसके कारण बकरियों की मृत्यु दर अधिक हो जाती है जिस पर हमेशा ध्यान देने की आवश्यकता होती है। बकरियों को बीमारियों से बचाने के लिए फार्म को हमेशा साफ रखना चाहिए और गीला नहीं रहने देना चाहिए। गर्मी के मौसम में पशुओं को अधिक गर्मी न लगे इसके लिए पंखों की व्यवस्था की जाती है और समय-समय पर पानी की व्यवस्था की जाती है।