home page

CIBIL Score : कितने टाइम में सुधरता है खराब सिबिल स्कोर, लोन लेने वालों को पता होनी चाहिए ये जरूरी बात

CIBIL Score : किसी भी बैंक या वित्तिय संस्थान से आप जब भी लोन लेने के लिए जाते है तो वहां सबसे पहले आपका सिबिल स्कोर ही चेक किया जाता है। अगर आपका सिबिल स्कोर ही ठीक नही होगा तो आपको लोन लेने में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। और सबसे बड़ी बात कि अगर आपका क्रेडिट स्कोर एक बार खराब हो जाता है तो उसे सुधारने में आपको सालों ल्रग जाएंगे। आइए जान लेते है कि कितने समय में आप कैसे अपना सिबिल स्कोर ठीक कर सकते है।

 | 
CIBIL Score : कितने टाइम में सुधरता है खराब सिबिल स्कोर, लोन लेने वालों को पता होनी चाहिए ये जरूरी बात

HR Breaking News, Digital Desk : वर्तमान समय में सही सिबिल स्कोर (cibil score) का होना बेहद जरूरी हो गया है. कभी भी व्यक्ति को लोन लेने की जरूरत पड़ जाती है. अगर ऐसी स्थिति पड़ती है तो बैंक तभी लोन देते हैं, जब उसका क्रेडिट स्कोर अच्छा होता है. आपकी सैलरी 20 हजार महीना हो या आप साल के 20 लाख कमाते हो. आपको कभी ना कभी लोन की जरूरत जरूर पड़ती ही होगी, और उसे पूरा करने के लिए आप बैंक के पास या किसी फाइनेंस कंपनी के पास जाते है तो वो कंपनी आपसे आपका क्रेडिट स्कोर पूछती होगी. 


अगर आपका क्रेडिट स्कोर 700 से 900 के बीच है तो हो सकता है कि आपको आसानी से लोन मिल जाए. अब सवाल ये है कि ये क्रेडिट स्कोर क्या चीज है? अगर आप इस सवाल का जवाब जानते हैं तो ये जान लीजिए कि एक बार क्रेडिट स्कोर खराब हो गया तो उसे सुधारने में कितने साल लगते हैं.


पहले जान लें क्या होता है क्रेडिट स्कोर


क्रेडिट स्कोर या फिर सिबिल स्कोर उस चिड़ियां का नाम है, जो व्यक्ति के फाइनेंशियल स्टेटस के बारे में बताती है. यह 300 से 900 के बीच होता है, जो 700 से अधिक होने पर बेहतर माना जाता है. क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान हो या हर महीने अदा की जाने वाली ईएमआई. अगर व्यक्ति कभी भी समय से पेमेंट करने से चूक जाता है तो उसका क्रेडिट स्कोर खराब हो जाता है.

सिबिल स्कोर खराब होने के प्रमुख कारण


आपका सिबिल स्कोर कई कारकों पर निर्भर करता है. यदि लोन की किस्तें समय पर नहीं चुकाई जातीं, बकाया सेटल किया जाता है, या क्रेडिट कार्डों (credit card limit) की लिमिट पूरी तरह से इस्तेमाल की जाती है, तो क्रेडिट स्कोर में कमी हो सकती है. हालांकि, जैसे ही व्यक्ति इन प्वाइंट्स पर सुधार करता है, उसका स्कोर बढ़ने लगता है. हालांकि ये खामियां क्रेडिट रिपोर्ट में लंबे समय तक दर्ज रह सकती हैं.


स्कोर सुधारने में लग जाता है 7 साल का समय


एक  रिपोर्ट के मुताबिक, यदि एक बार सिबिल स्कोर (bad cibil score) खराब हो जाए तो क्रेडिट रिपोर्ट को सुधारने में 7 साल का समय लग सकता है. यदि आपने किसी पेमेंट को समय पर नहीं किया है, तो इसका असर आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में सात साल तक बना रहता है. 


इसी तरह, यदि आपने किसी बैंक के साथ डिफॉल्ट (default with bank) किया है या बैंक के साथ बकाए को सेटल किया है, तो इस जानकारी को भी सात साल तक आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में देखा जा सकता है. बैंकरप्सी और कोर्ट जजमेंट जैसी जानकारियां भी सात सालों तक आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में दिखती रहती हैं. इसलिए कोई भी ऐसी गलती करने से पहले एक बार इस स्टोरी में बताए गई जानकारी का जरूर ध्यान रखें.