home page

Credit Card : बैंकों ने क्रेडिट कार्ड को लेकर बनाए नए नियम, RBI ने जारी की थी महत्वपूर्ण गाइडलाइन

Credit Card : क्रेडिट कार्ड का यूज करने वालों के लिए एक बड़ी खबर सामने आ रही है। क्रेडिट कार्ड के जरिए होने वाले फ्रॉड और धोखाधड़ी के मामलों को रोकने के लिए बैंकों ने नए नियम बनाए हैं। आइए नीचे खबर में विस्तार से जानते हैं- 

 | 

HR Breaking News (नई दिल्ली)। क्रेडिट कार्ड के जरिए फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग को रोकने के लिए बैंकों ने कदम उठाना शुरू कर दिया है। इस दिशा में आरबीआई ने भी समय-समय पर मार्गदर्शन जारी किया है। अब क्रेडिट कार्ड प्रदाता कंपनियों ने इस मामले में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। मनी लॉन्ड्रिंग और धोखाधड़ी की चिंताओं के कारण, बैंक या क्रेडिट कार्ड उपयोगकर्ताओं को उनके बकाया से अधिक राशि का भुगतान करने की अनुमति नहीं दे रहे हैं या अतिरिक्त राशि वापस नहीं कर रहे हैं। ज्यादातर क्रेडिट कार्ड उपभोक्ता बिलिंग डेट के बाद अपना कुल बकाया या न्यूनतम बकाया का भुगतान करते हैं। मगर, कुछ ग्राहक सीमा का उल्लंघन न करने के लिए अधिक राशि का भुगतान करने के लिए प्रेरित हो सकते हैं। अब ऐसा नहीं होगा।

विदेश जानें वाले ग्राहकों पर पड़ सकता है असर

कई यात्री विदेश जाने से पहले अपने कार्ड में अतिरिक्त पैसा जमा कर देते हैं। इसके बाद, वे विदेश में खरीददारी करते हैं। ऐसा करते समय, वे कार्ड की सीमा के अलावा या वित्तीय वृद्धि की आशा के साथ खर्च करते हैं। इस स्थिति में बैंकर्स का कहना है कि इस तरीके से ग्राहक खरीददारी के तुरंत बाद भुगतान कर सकते हैं।

बैंक का दावा है कि क्रेडिट कार्ड खातों में अतिरिक्त धन जमा करने की अनुमति न देने का एक कारण यह है कि उन्हें अंतरराष्ट्रीय लेन-देन में मनी म्यूल्स के रूप में उपयोग से रोकना है। इसके साथ ही, हाल के दिनों में बैंकों के सामने खाता हैक करके पैसा क्रेडिट कार्ड में भेजने और अंतरराष्ट्रीय लेन-देन करने के मामले आए हैं। इसके बाद, बैंक ने यह निर्णय लिया है। बैंक का दावा है कि समझदारी से इस्तेमाल करने पर ग्राहक को इससे परेशानी नहीं होगी।

ICICI में कर सकते हैं ओवर पेमेंट

वर्तमान में HDFC, SBI और AXIS बैंक के द्वारा अपने ग्राहकों को ओवरपेमेंट करने से रोका गया है. हालांकि, ICICI के क्रेडिट कार्ड धारक अभी भी एप के माध्यम से ओवर पेमेंट कर सकते हैं. एचडीएफसी ने इस बारे में कहा कि हम ग्राहकों को सलाह देते हैं कि वे क्रेडिट कार्ड पर अतिरिक्त क्रेडिट न रखें क्योंकि उनकी समीक्षा एएमएल (एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग) के नजरिए से भी की जाती है. शीर्ष बैंक से मिले आदेश के तहत, बैंक को एक निश्चित अवधि के भीतर कार्ड पर अतिरिक्त क्रेडिट शेष वापस करना होता है.

क्रेडिट कार्ड क्या होता है

बैंक या किसी कंपनी द्वारा ग्राहक को उनके सिबिल स्कोर के आधार पर क्रेडिट कार्ड दिया जाता है। क्रेडिट कार्ड एक वित्तीय उपकरण है जिसे आप अपनी खरीदारी और वित्तीय लेन-देन के लिए उपयोग कर सकते हैं। यह नगदी के बदले दिया जाने वाला प्रकार है जिससे आप विभिन्न व्यापारिक स्थानों पर खरीदारी कर सकते हैं और अपने खर्चों को व्यवस्थित करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड आपको एक निश्चित राशि तक खरीदारी करने की अनुमति देता है, जिसे "क्रेडिट लाइन" कहा जाता है। यह आपके क्रेडिट स्कोर और भुगतान के इतिहास पर निर्भर करता है।

यदि आप अपने क्रेडिट कार्ड का उपयोग खरीदारी के लिए करते हैं और खर्च की राशि को बिल के समय पूर्ण भुगतान नहीं करते हैं, तो इस पर ब्याज लगता है। यह ब्याज भुगतान नहीं की गई राशि पर लगता है और आपके बकाया राशि में शामिल किया जाता है। क्रेडिट कार्ड पर आप अपने खाता की व्यवस्था कर सकते हैं और ऑनलाइन व्यवस्था के माध्यम से खरीदारी के लिए भुगतान कर सकते हैं। इसके साथ ही, आप इसके माध्यम से विभिन्न प्रकार के वेबसाइट्स, ऑनलाइन स्टोर्स, रेस्टोरेंट में भी पेमेंट कर सकते हैं।


क्रेडिट कार्ड का बिल चुकाने के लिए कितना दिन मिलता है

क्रेडिट कार्ड बिल को चुकता करने के लिए आपको एक निश्चित आपूर्ति समय दिया जाता है, जो आमतौर पर 20 से 50 दिनों तक होता है। इस समय के भीतर, आपको बिल की राशि का पूरा भुगतान करना होता है ताकि आप ब्याज से बच सकें। तय छूट के बाद बिल का भुगतान करने पर, कंपनी द्वारा बिल की राशि पर ब्याज लिया जाता है।

क्रेडिट कार्ड पर ब्याज का दर वार्षिक प्रतिशत दर (APR) के रुप में व्यक्त किया जाता है, जो आमतौर पर 14 प्रतिशत से लेकर 40 प्रतिशत के बीच होती है। यदि आप बिल का समय पर भुगतान नहीं करते, तो आपके कार्ड की बकाया लिमिट पर ब्याज बढ़ जाता है। इस ब्याज की गणना दिनों के आधार पर की जाती है (लेन-देन की तारीख से लेकर कुल दिन x शेष राशि x मासिक क्रेडिट कार्ड ब्याज दर x 12 महीने) / 365 दिन।