home page

Delhi-NCR Property Rates : दिल्ली-एनसीआर में प्रोपर्टी की कीमतों में तगड़ी बढ़ोतरी, जानिए कितने बढ़े रेट

Delhi-NCR Property Rates : पिछले पांच वर्षों में दिल्ली-एनसीआर में घरों की औसत कीमतें लगभग 50 प्रतिशत बढ़ी हैं। एनारॉक के आंकड़ों के मुताबिक, Delhi-NCR में आवासीय संपत्तियों (residential properties) की औसत कीमत जनवरी-जून, 2024 में 49 प्रतिशत बढ़कर 6,800 रुपये प्रति वर्ग फुट हो गई है।

 | 

HR Breaking News, Digital Desk-  दिल्ली-एनसीआर में घरों की औसत कीमतें पिछले पांच वर्षों में लगभग 50 प्रतिशत बढ़ी हैं। संपत्ति सलाहकार एनारॉक ने बेतहाशा तेजी की वजह भी बताई है। एनारॉक के आंकड़ों के मुताबिक, Delhi-NCR में आवासीय संपत्तियों (residential properties) की औसत कीमत जनवरी-जून, 2024 में 49 प्रतिशत बढ़कर 6,800 रुपये प्रति वर्ग फुट हो गई है, जो 2019 की समान अवधि में 4,565 रुपये प्रति वर्ग फुट थी। आइये जानते हैं एनरॉक ने क्या-क्या बताया है।

मुंबई में भी बेतहाशा वृद्धि-
एनरॉक से मिली जानकारी के मुताबिक, मुंबई में भी घरों की कीमतों में बढ़ोतरी देखने को मिली है। एनरॉक के अनुसार, एमएमआर में समीक्षाधीन अवधि के दौरान आवास की औसत कीमतें 10,610 रुपये प्रति वर्ग फुट से 48 प्रतिशत बढ़कर 15,650 रुपये प्रति वर्ग फुट हो गईं। एनारॉक ने कहा कि निर्माण लागत में भारी बढ़ोतरी और अच्छी बिक्री के कारण कीमतों में बढ़ोतरी हुई। इसने बताया कि 2016 के अंत से 2019 तक दोनों क्षेत्रों में कीमतें स्थिर रहीं थीं। बाद में घरों की मांग तेजी से बढ़ने पर इसकी कीमतों में भी तेजी देखने को मिली और यह 50 प्रतिशत तक बढ़ गई।

क्या है वजह-
एनरॉक एक प्रॉपर्टी सलाहकार कंपनी है। इस कंपनी के अपडेट के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर के साथ ही मुंबई में घरों की कीमत में वृद्धि हुई है। एनरॉक ने इन घरों की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह भी बताई है। कंपनी के अनुसार, घरों की कीमत में यह वृद्धि इन इलाकों में घरों की तेजी से बढ़ रही मांग की वजह से हुई है। घर खरीदने वालों की संख्या में लगातार हो रही वृद्धि के कारण इन इलाकों में कीमतें भी लगातार बढ़ रही हैं।

एनारॉक ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण इन दोनों आवासीय बाजारों में मांग नई ऊंचाइयों पर पहुंच गई। शुरुआत में, डेवलपर्स ने पेशकश और मुफ्त उपहारों की मदद से बिक्री को बढ़ावा दिया, लेकिन मांग बढ़ने के साथ ही उन्होंने धीरे-धीरे औसत कीमतें बढ़ा दीं।