home page

Father's Property : शादी से पहले और शादी के बाद पिता की संपत्ति में बेटी का कितना अधिकार, जानिये कानूनी प्रावधान

Father's Property: पिता की संपत्ति में अधिकार का दावा करने के लिए बेटी न्यायालय जा सकती है. इसके लिए उसे दीवानी न्यायालय में मामला दायर करना होगा.आइए जानते है इसके बारे में विस्तार से.

 | 
Father's Property : शादी से पहले और शादी के बाद पिता की संपत्ति में बेटी का कितना अधिकार, जानिये कानूनी प्रावधान

HR Breaking News (नई दिल्ली)।  हमारे देश में पिता की संपत्ति पर बेटियों के अधिकारों से संबंधित क्या प्रावधान हैं इसको लेकर बहुत से लोगों में जानकारी का अभाव रहता है. खासकर महिलाओं को इसकी कम जानकारी होती है. बहुत सी महिलाएं यह मानकर चलती हैं कि इस संपत्ति से उनका कुछ भी लेना-देना नहीं है.

इसके अलावा तमाम सामाजिक परंपराओं की वजह से भी बेटियां पिता की संपत्ति में अपने अधिकारों से वंचित रह जाती हैं. यहां हम आपको बेटियों के पिता की संपत्ति पर हक संबंधी कानूनी प्रावधानों के बारे में बताएंगे-

क्या कहता है हिंदू उत्तराधिकार कानून:


संपत्ति पर दावे और अधिकारों के प्रावधानों के लिए इस कानून को 1956 में बनाया गया था. इसके मुताबिक पिता की संपत्ति पर बेटी का उतना ही अधिकार है जितना कि बेटे का. बेटियों के अधिकारों को पुख्ता करते हुए इस उत्तराधिकार कानून में 2005 में हुए संशोधन और 2020 में सुनाए गए एक फैसले ने पिता की संपत्ति पर बेटी के अधिकारों को लेकर किसी भी तरह के संशय को समाप्त कर दिया.

हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम में 2005 में संशोधन करके जहां यह स्पष्ट कर दिया गया कि पिता द्वारा खुद से अर्जित की गई संपत्ति पर बेटी का बेटों के बराबर हक है. इस दावे पर इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि पिता का देहांत बिना वसीयत बनाए हो गया है या बेटी विवाहित है अथवा नहीं. वहीं दूसरी ओर 2020 में सुनाए गए एक फैसले में कहा गया कि बंटवारे में मिलने वाली पैतृक संपत्ति पर भी बेटी अपना दावा कर सकती है.

संपत्ति पर बेटी के अधिकारों को लेकर हालिया फैसला-


सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल जनवरी में पिता की संपत्ति पर बेटी के अधिकारों को लेकर एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया. इसमें प्रावधान किया गया कि पिता की संपत्ति (खुद से अर्जित की हुई और बंटवारे में मिली हुई) को विरासत में पाने का हक बेटियों को है. हिंदू पिता जिसका बिना वसीयत किए देहांत हो जाता है उनकी संपत्ति पर बेटी को परिवार के दूसरे सदस्य जैसे कि पिता के भाई या भाई के बेटे-बेटियों पर वरीयता दी जाएगी और अपने भाइयों के बराबर अधिकार होंगे.

संपत्ति ना मिलने पर जा सकती हैं न्यायालय-


पिता की संपत्ति में अधिकार का दावा करने के लिए बेटी न्यायालय जा सकती है. इसके लिए उसे दीवानी न्यायालय में मामला दायर करना होगा. दावा सही होने की स्थिति में बेटी को पिता की संपत्ति में अधिकार मिल जाएंगे.