home page

Gold import : भारत में इस छोटे से देश से आता है सबसे ज्यादा सोना, जानिये खपत के मामले में कौन सा नंबर

सोने का आयात भारत की अर्थव्यवस्था के लिए एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। इसके सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के प्रभाव हैं। सरकार सोने के आयात को कम करने और घरेलू सोने के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए नीतियां बनाना जारी रखे हुए है। वित्‍त वर्ष 2023-24 में सोने के आयात में बढ़ोतरी हुई है। यह 30 फीसदी बढ़कर 45.54 अरब डॉलर हो गया है।आइए जानते है इसके बारे में विस्तार से.

 | 
Gold import : भारत में इस छोटे से देश से आता है सबसे ज्यादा सोना, जानिये खपत के मामले में कौन सा नंबर

HR Breaking News (नई दिल्ली)। चीन के बाद भारत दुनिया में सोने का दूसरा बड़ा उपभोक्ता है। यह आयात मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करता है। मजबूत घरेलू मांग रहने से देश में सोने का आयात वित्त वर्ष 2023-24 में 30 फीसदी बढ़कर 45.54 अरब डॉलर हो गया है। सरकारी आंकड़ों से यह जानकारी मिलती है। वित्त वर्ष 2022-23 में सोने का आयात 35 अरब डॉलर का रहा था। सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव का रुपये की विनिमय दर पर सीधा असर पड़ता है। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि सोने का आयात महंगाई को बढ़ाता है। सोने के आयात का अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह का प्रभाव पड़ सकता है।

भारत में कहां से आता है सबसे ज्‍यादा सोना?


वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, इस साल मार्च में कीमती धातु का आयात 53.56 फीसदी घटकर 1.53 अरब डॉलर रह गया। स्विट्जरलैंड सोने के आयात का सबसे बड़ा स्रोत है। इसकी हिस्सेदारी लगभग 40 फीसदी की है। इसके बाद संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की आयात में हिस्सेदारी 16 फीसदी और दक्षिण अफ्रीका की लगभग 10 फीसदी है।


देश के कुल आयात में सोने की हिस्सेदारी पांच फीसदी से अधिक रही है। फिलहाल सोने पर 15 फीसदी आयात शुल्क लगता है। सोने का आयात बढ़ने के बावजूद देश का व्यापार घाटा (आयात और निर्यात के बीच का अंतर) पिछले वित्त वर्ष में घटकर 240.18 अरब डॉलर रह गया। जबकि 2022-23 में यह व्यापार घाटा 265 अरब डॉलर था।


73,000 रुपये के ऊपर न‍िकल गए हैं रेट


पिछले कुछ समय में सोने की कीमतें तेजी से बढ़ी हैं। ये 73,000 रुपये प्रति दस ग्राम के ऊपर पहुंच गई हैं। अमेरिका में बेरोजगारी दावों के ताजा आंकड़ों से श्रम बाजार में सुस्ती के संकेत मिलने के बाद सोने में तेजी आई है। इससे यह विश्वास बढ़ा कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व इस वर्ष ब्याज दर में कटौती शुरू कर सकता है।