home page

FD में लगाना है पैसा, तो जानिए कैसे मिलेगा ज्यादा ब्याज, एक्सपर्ट की राय

FD - अगर आप भी एफडी में निवेश करने का प्लान कर रहे है तो ये खबर आपके लिए है। दरअसल आज हम आपको अपनी इस खबर में कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे है जिनके चलते आप एफडी पर ज्यादा ब्याज पा सकते है... तो चलिए आइए जानते है नीचे इस खबर में।
 | 

HR Breaking News, Digital Desk- How To Get Good Interest on FD: प‍िछले द‍िनों आरबीआई ने एमपीसी की बैठक के बाद रेपो रेट में क‍िसी तरह का बदलाव नहीं क‍िया. ऐसा लगातार तीसरी बार हुआ है जब रेपो रेट को पुराने स्‍तर पर ही कायम रखा गया है. हालांक‍ि महंगाई दर के र‍िकॉर्ड लेवल पर पहुंचने के बाद आने वाले समय में महंगाई पर काबू पाने के ल‍िए र‍िजर्व बैंक को कुछ सख्‍त कदम उठाने पड़ सकते हैं. पिछले साल मई 2022 से जब रेपो रेट में इजाफा क‍िया गया तो बैंकों की तरफ से एफडी की ब्याज दर में भी इजाफा क‍िया गया. कई बैंकों की तरफ से सीन‍ियर स‍िटीजन और कुछ चुन‍िंदा ग्राहकों को 9% से ज्‍यादा FD पर ब्याज की पेशकश की जा रही है.

बढ़ोतरी की संभावना न के बराबर-

एक्‍सपर्ट का कहना है क‍ि रेपो रेट में आने वाले समय में क‍िसी तरह का बदलाव नहीं क‍िये जाने की उम्‍मीद है. अगर रेपो रेट इससे ज्‍यादा नहीं बढ़ता है तो एफडी पर म‍िलने वाली ब्याज दर में और बढ़ोतरी की संभावना न के बराबर है. अगर आप एफडी पर ज्‍यादा ब्‍याज का फायदा लेना चाहते हैं तो हाई इंटरेस्‍ट रेट पर एफडी बुक करने का यह बेस्‍ट टाइम है. जब आप एक न‍िश्‍च‍ित दर पर एफडी करते हैं तो जमा अवधि के दौरान इसकी ब्‍याज दर में क‍िसी प्रकार का बदलाव नहीं होता.

रेपो रेट में क‍िसी प्रकार का बदलाव नहीं-
प‍िछले तीन मौद्र‍िक समीक्षा नीत‍ि से रेपो रेट में क‍िसी प्रकार का बदलाव नहीं क‍िया गया है. RBI की तरफ से रिवर्स रेपो रेट को भी पुरानी दर पर ही बरकरार रखा गया है. एक्‍सपर्ट का कहना है क‍ि खुदरा निवेशकों के ल‍िए यह एफडी में पैसा लॉक करने का सबसे अच्‍छा समय है. दरअसल, इस समय ब्याज दरें अपने चरम पर हैं. आने वाले समय में ब्‍याज दर में ग‍िरावट देखने को म‍िल सकती है. प‍िछले द‍िनों कुछ बड़े बैंकों ने ब्‍याज दर कम की है.

एक अन्‍य जानकार ने बताया क‍ि बढ़ती ब्‍याज दर का फायदा उठाने के लिए 30 दिन की अवधि के लिए एफडी को ऑटो-र‍िन्‍यूअल मोड में रखना कभी-कभी समझदारी भरा होता है. लेक‍िन अब जब आरबीआई (RBI) ने ब्‍याज दर में इजाफा नहीं क‍िया और रेपो रेट को रोकने के मद्देनजर, यह ज्‍यादा समझदारी भरा कदम होगा क‍ि मौजूदा ब्याज दर पर आप पैसे को लंबे समय के ल‍िए एफडी कर दें.