home page

Post Office की इस स्कीम में ब्याज FD के बराबर लेकिन नहीं मिलता टैक्स बैनिफिट

Post Office - आज हम आपको अपनी इस खबर में एक पोस्ट ऑफिस की एक स्कीम के बारे में बताने जा रहे है जहां एफडी के बराबर ब्याज मिलता है। लेकिन टैक्स बैनिफिट नहीं मिलता... इस अपडेट से जुड़ी पूरी जानकारी जानने के लिए खबर को पूरा पढ़े। 
 | 

HR Breaking News, Digital Desk- Kisan Vikas Patra Tax Rules: पोस्‍ट ऑफिस की किसान विकास पत्र (KVP) एक ऐसी स्‍कीम है, जिसमें आपका निवेश डबल होने की गारंटी है. किसानों के नाम से चलाई जा रही पोस्‍ट ऑफिस की इस स्‍कीम में मैच्‍योरिटी पर आपक‍ा पैसा डबल हो जाता है. मौजूदा समय में इस स्‍कीम पर 7.5 फीसदी सालाना ब्‍याज है, जो पोस्‍ट ऑफिस की 5 साल की एफडी यानी टाइम डिपॉजिट स्‍कीम के बराबर ही है. लेकिन इसमें एफडी में निवेश करने की तुलना में नुकसान भी है. आपको भी इस स्‍कीम में निवेश के पहले इसके फायदे और नुकसान के बारे में जान लेना चाहिए.

KVP: टैक्‍स का फायदा नहीं मिलेगा-

किसान विकास पत्र में निवेश करने पर आपको अर्जित इंटरेस्‍ट इनकम पर टैक्‍स देना पड़ता है. वहीं इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्शन 80C के तहत आपको इस स्‍कीम में जमा राशि पर कोई टैक्‍स बेनेफिट नहीं मिलता है. यानी आपके द्वारा किया गया निवेश इनकम टैक्‍स के दायरे में ही रहेगा. जबकि 5 साल की टैक्‍स सेवर एफडी या नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट और पीपीएफ अकाउंट पर मिलने वाला ब्याज टैक्स फ्री होता है. वहीं इन योजनाओं में जमा 1.50 लाख रुपये तक की राशि पर इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्शन 80C के तहत टैक्‍स छूट का लाभ मिलता है. एनआरआई और हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) केवीपी प्रमाण पत्र खरीदने के लिए योग्य नहीं होते हैं.

KVP: 2 तरह से टैक्स लगता है-

किसान विकास पत्र में जमा राशि पर मिलने वाला ब्याज टैक्सेबल इनकम के तहत आता है. इसे अदर इनकम मानकर टैक्स लगाया जाता है. इस ब्याज पर 2 तरह से टैक्स लगता है. पहला विकल्प है कैश बेसिस टैक्सेशन और दूसरा सालाना ब्याज पर लगने वाला टैक्स. पहले विकल्प में मैच्योरिटी पर मिलने वाले ब्याज को आपके इनकम में जोड़ दिया जाता है और फिर टैक्स स्लैब के अनुसार टैक्स काट लिया जाता है. जबकि दूसरे विकल्प में हर साल टैक्स कट जाता है.

कितने साल में रकम डबल-

किसान विकास पत्र में जमा राशि पर 7.5 फीसदी सालाना की दर से ब्‍याज मिल रहा है और 115 महीने यानी 9 साल 7 महीने में आपका पैसा डबल हो जाता है. किसान विकास पत्र स्कीम में कोई भी एडल्‍ट जिसकी उम्र 18 साल से ज्यादा है, अपना खाता खुलवा सकता है. वहीं माइनर की ओर से उसके माता-पिता या अभिभावक द्वारा खाता खुलवाया जा सकता है. इस स्कीम में सिंगल या फिर ज्वॉइंट अकाउंट खोलने की सुविधा है. ज्वॉइंट अकाउंट में अधिकतम 3 एडल्‍ट शामिल हो सकते हैं.

निवेश के लिए मिनिमम रकम-

इस स्कीम में निवेश की मिनिमम राशि 1000 रुपये है, जबकि इसमें अधिकतम निवेश के बारे में कोई भी लिमिट तय नहीं की गई है. हालांकि 50 हजार रुपये से ज्यादा के निवेश पर पैन कार्ड दिखाना अनिवार्य है. किसान विकास पत्र में निवेश करने वाले लोगों को कुछ शर्तों और परिस्थतियों में अकाउंट ट्रांसफर करने की सुविधा दी जा रही है. किसान विकास पत्र के खाताधारक की मौत के बाद उसके नॉमिनी या कानूनी उत्तराधिकारी को अकाउंट ट्रांसफर किया जाता है. साथ ही ज्वॉइन्ट अकाउंट होल्डर्स में से किसी की डेथ होने और कोर्ट के आदेश से अकाउंट ट्रांसफर किया जाता है.