home page

Success Story : पिता लगाते थे रेहड़ी, बेटे ने खड़ी कर दी 400 करोड़ की कंपनी, एक आइडिये ने बदल दी जिंदगी

Naturals Ice Cream : आज हम आपको बताने जा रहे है एक ऐसे सफल आदमी के बारे में जिसके पिता लगाते थे रेहड़ी, बेटे ने मेहनत के दम पर खड़ी कर दी 400 करोड़ की कंपनी, आइए खबर में जानते है इनके बारें में विस्तार से।

 | 
Success Story : पिता लगाते थे रेहड़ी, बेटे ने खड़ी कर दी 400 करोड़ की कंपनी, एक आइडिये ने बदल दी जिंदगी

HR Breaking News, Digital Desk - गरीबी में पैदा होना हमारे हाथ में नहीं होता, लेकिन गरीबी में नहीं मरना हमारे हाथ में है। सपने बड़े हों, तो मेहनत और संघर्ष के साथ किसी भी मंजिल को पाया जा सकता है। सफलता की ऐसी ही एक कहानी नेचुरल्स आइसक्रीम कंपनी (Naturals Ice Cream) की है। यह कंपनी कर्नाटक के एक गांव में फल का ठेला लगाने वाले के बेटे ने शुरू की थी। आज यह 400 करोड़ रुपये से अधिक की कंपनी है। यह कहानी रघुनंदन श्रीनिवास कामत (Raghunandan Srinivas Kamath) की है।
 

आम बेचते थे पिता

कामत के पिता कर्नाटक के मैंगलोर जिले के एक गांव में आम बेचते थे। कामत अपने पिता को सही फल चुनते हुए और उसे लंबे समय तक उसे सुरक्षित रखने का प्रयत्न करते देखते थे। कामत ने अपने पिता के साथ कई साल तक सही फलों को चुनना और उन्हें प्रीजर्व्ड रखना सीखा। लेकिन कामत के सपने बड़े थे। वे कुछ बड़ा करना चाहते थे। बिजनस करने का सोचकर कामत मुंबई आ गए।
 

जुहू में खोला पहला स्टोर

कामत ने 14 फरवरी 1984 में अपना पहला आइसक्रीम ब्रांड नेचुरल्स शुरू किया। उन्होंने मुंबई के जुहू में पहला स्टोर खोला था। उस समय नेचुरल्स में केवल 4 कर्मचारी थे। उन्होंने आइसक्रीम के 10 फ्लेवर रखे थे। शुरुआत में कामत को यह डर था कि पता नहीं लोगों को आइसक्रीम के ये फ्लेवर पसंद आएंगे या नहीं। इसलिए उन्होंने मेन प्रोडक्ट पाव भाजी रखा और आइसक्रीम को एड-ऑन प्रोडक्ट की तरह बेचने लगे। इसके बाद उन्होंने 12 फ्लेवर्स के साथ स्टोर को पूरी तरह आइसक्रीम पार्लर के रूप में स्टार्ट किया।

5 लाख से 400 करोड़ का सफर


रघुनंदन के इस ब्रांड की एक खास बात थी। नेचुरल्स की आइसक्रीम में कोई भी केमिकल या कलर नहीं मिलाया जाता था। उन्होंने 40 साल तक इस खासियत को बनाए रखा। इससे कारोबार में तेजी से ग्रोथ हुई। अब नेचुरल्स देश के टॉप 10 ब्रांड में शामिल है। जुहू में उन्होंने 200 वर्गफीट में पहला स्टोर खोला था। शुरुआती साल में उन्हें 5 लाख रुपये का टर्नओवर मिला था। वित्त वर्ष 2020 में नेचुरल्स आइसक्रीम का टर्नओवर 300 करोड़ पर पहुंच गया था। साल 2022 में यह बढ़कर 400 करोड़ रुपये हो गया।

फ्रूट, शुगर, मिल्‍क और मां हैं USP

कामत कहते हैं कि उन्होंने मां से स्वाद बढ़ाने का गुर सीखा है। उन्होंने एक इंटरव्‍यू में कहा था कि उनके ब्रांड की यूएसपी फ्रूट, शुगर, मिल्‍क और मां हैं। कामत ने नेचुरल्‍स की मार्केटिंग टैगलाइन भी ‘टेस्‍ट द ओरिजनल’ रखा है। नेचुरल्‍स के पार्लर पर अब सिर्फ आइसक्रीम ही नहीं, बल्कि हलवा और लड्डू जैसी मिठाइयां भी मिलती हैं। वे नेचुरल चीजों से अपने सारे प्रोडक्ट बनाते हैं।