home page

Success Story : 80 हजार करोड़ का बिजनेस छोड़कर, खुद के दम पर इस महिला ने खड़ी की 150 करोड़ की कंपनी

Success Story : कहते है की जब हम किसी चीज को करने की सच्चे मन से ठान लेते है तो हर मुश्किल को पर करके हम अपनी मंजिल कर ही लेते है, ऐसी ही कहानी आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे है, दरशल, हम बात कर रहे है सिमरन लाल की जिन्होंने 80 हजार करोड़ का बिजनेस छोड़कर खुद का कुछ काम शुरू करना चाहा, उन्‍होंने हजारों करोड़ के बिजनेस को संभालने के बजाए खुद की कंपनी शुरू की।
 | 
Success Story : 80 हजार करोड़ का बिजनेस छोड़कर, खुद के दम पर इस महिला ने खड़ी की 150 करोड़ की कंपनी

HR Breaking News: आयशर ट्रैक्‍टर और रॉयल इनफील्‍ड बुलेट बनाने वाली कंपनी देशभर में अपने वाहनों के लिए लोकप्रिय है. इस कंपनी का टर्नओवर 80 हजार करोड़ रुपये है. इस कंपनी का ज्‍यादातर रेवेन्‍यू बाइक सेग्‍मेंट (bike segment) से आता है, जिसकी कमान सिद्धार्थ लाल यानी सिड लाल देखते हैं, हालांकि उनकी बहन सिमरन लाल ( Simran Lal ) को भी इस कंपनी में जिम्‍मेदारी संभालने का मौका मिला था. लेकिन, सिमरन ने विरासत में मिले इस काम को करने के बजाए खुद के दम पर (on one's own) नाम कमाने का एक मुश्किल रास्ता चुना. सिमरन ने अपनी मां के स्‍टार्टअप (mother's startup) को बढ़ाया और 5 करोड़ टर्नओवर वाले बिजनेस को कुछ ही साल में 30 गुना बढ़ा दिया.


जहां एक तरफ सिड लाल आइकॉनिक बिजनेस लीडर हैं जो विरासत में मिली एक कंपनी को नई उचाईयों पर लेकर जा रहे हैं. वहीं, सिमरन लाल ने अपनी राह खुद बनाने का फैसला किया और स्थापित फैमिली बिजनेस से अलग हो गईं. सिमरन लाल ( Simran Lal ) ने अपनी मां द्वारा बनाई एक छोटी कंपनी को आगे बढ़ाने का फैसला किया. इस कंपनी का नाम गुडअर्थ है. इसकी स्थापना 1996 में हुई थी. सिमरन लाल ( Simran Lal ) ने आज अपने दम पर इस कंपनी को 150 करोड़ का बना दिया. एक रोचक तथ्य यहां ये है कि गुडअर्थ सिमरन लाल के दादा मोहनलाल की कंपनी का भी नाम था जिसके साथ पार्टनरशिप में जर्मनी की आयशर भारत आई थी. बाद में मोहनलाल के बेटे और सिमरन व सिड के पिता विक्रम लाल ने आयशर का टेकओवर कर इसे पूरी तरह से भारतीय कंपनी बना दिया था.
 

2002 में मां की कंपनी से जुड़ीं


सिमरन 2002 में गुडअर्थ के साथ जुड़ी थीं. सीईओ बनने से पहले उन्होंने कंपनी में कार्यकारी अधिकारी के रूप में काम किया और कई विभागों के काम देखे. उन्होंने कंपनी को देश सफलतम लग्जरी लाइफस्टाइल ब्रांड बना दिया. कंपनी फैशन, होम और वैलनेस संबंधी सामान बेचती है. जब उन्होंने कंपनी की कमान सीईओ के तौर पर अपने हाथ में ली तब रेवेन्यू 5 करोड़ रुपये था. 2016-17 तक यह बढ़कर 150 करोड़ रुपये हो गया. इसके बाद के कंपनी के वित्तीय आंकड़े नहीं मिलते हैं. उन्होंने 2017 में अपने पति राहुल राय के साथ मिलकर एक और लाइफस्टाइल ब्रांड की शुरुआत की जिसका नाम निकोबार है.

कहां से की पढ़ाई


सिमरन लाल ( Simran Lal ) ने बैंगलोर यूनिवर्सिटी से हिस्ट्री मास्टर्स किया. इसके बाद वह फैशन पढ़ने के लिए न्यूयॉर्क के फैशन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी चली गईं. गुडअर्थ ने उनकी अगुआई में अपना पहला फ्लैगशिप स्टोर मुंबई में खोला. इसके बाद दिल्ली के पॉश इलाके खान मार्केट में उन्होंने अपना अगला स्टोर खोला. उन्होंने 2013 में अपना बिजनेस ऑनलाइन भी कर दिया. सिमरन लाल ( Simran Lal ) दिल्ली में अपने पति व 2 बच्चों के साथ रहती हैं.