home page

Success Story : कभी कर्ज लेकर खोली थी एक दुकान, आज हैं 17 हजार करोड़ की कंपनी के मालिक

Success story in Hindi : किसी भी चीज की शुरूआत में ही सफलता मिल जाए ऐसा जरूरी नही होता है। किसी भी काम के लिए दृढ़निष्ठता होनी बेहद जरूरी है। अगर बात करें कल्याण ज्वैलर्स की, इसके मालिक कल्याणरमन की तो उन्होने कर्ज लेकर बिल्कुल 0 से अपने बिजनेस की शुरूआत की और आज वे 17 हजार करोड़ की कंपनी के मालिक है। आइए जानते है 0 से लंकर 17 हजार करोड़ की कंपनी के मालिक बनने तक का उनका ये सफर....

 | 
Success Story : कभी कर्ज लेकर खोली थी एक दुकान, आज हैं 17 हजार करोड़ की कंपनी के मालिक

HR Breaking News (ब्यूरो) : अगर सपनों को पूरा करने की चाह हो और पूरी मेहनत व  लगन से उस काम को किया जाए तो सपने एक दिन पूरे हो ही जाते हैं. कई लोग जीरो से शुरुआत करके बुलंदियों पर पहुंच (Starting from zero and reaching great heights) जाते हैं. इन्हीं लोगों में से एक हैं व्यापार घराने के कल्याणरमन (TS kalyanaraman). परिवार का बिजनेस से नाता होने के बाद भी उन्हें अपना खुद का व्यापार शुरू करना था. जिसके लिए कभी उन्होंने लोन लेकर सोने की एक दुकान खोली. जो आज के समय ज्वैलरी का बड़ा ब्रांड बन (Success story) चुका है.


पूरे देश में फ़ैला है कल्याण ज्वैलर्स कारोबार

इस लेख में हम बात कर रहे हैं कल्याण ज्वैलर्स (Kalyan Jewelers) की. जिसकी देश के कई शहरों में ब्रांच हैं. इस ज्वैलरी ब्रांड का नाम सभी ने सुना होगा. जिसकी सफलता की कहानी प्रेरणा से भरी है. 23 अप्रैल, 1947 को केरल के त्रिशूर में कल्याणरमन का जन्म हुआ था. उनके पिता टीआर सीतारम्मैया कपड़ों के बड़े कारोबारी थे. उनके दादा पहले पुजारी थे. लेकिन बाद में उन्होंने बिजनेस की दुनिया में कदम रखा.

12 साल की उम्र से ही कल्याणरमन ने अपने पिता के साथ बिजनेस की बारीकियां सीखनी शुरू कर दी थी. वे अपने पिता की दुकान में मदद करते थे. केरल के श्री केरल वर्मा कॉलेज से उन्होंने कॉमर्स सब्जेक्ट के साथ ग्रेजुएशन पूरा किया.

मेहनत के दम पर हासिल की सफलता


कल्याणरमन के घर में पिता का बड़ा कारोबार होने के बाद भी उनको उस कारोबार में रूचि नहीं थी. वे अपना बिजनेस शुरू (Business startup) करना चाहते थे. जिसके लिए उन्होंने पढ़ाई के बाद काम करके 25 लाख रुपये का फंड जमा कर लिया. वे सोने की दुकान खोलना चाहते थे. जिसके लिए जमा किया गया फंड कम था. इसलिए उन्होंने बैंक से पचास लाख रुपये का लोन लिया.

कल्याणरमन ने लोन के पैसे और अपने पास जमा राशि से त्रिशूर में कल्याण ज्वैलर्स (Kalyan Jewelers in Thrissur) नाम से ज्वैलरी शॉप ओपन की. जिसे सफल बनाने के लिए उन्होंने पूरी जी जान लगा दी. धीरे-धीरे केरल से होते हुए अन्य राज्यों में भी उन्होंने अपना बिजनेस शुरू किया. आज देश के कई राज्यों में कल्याण ज्वैलर्स की 200 से अधिक दुकानें हैं.


आपको बता दें कि देश के साथ ही विदेशों में भी कल्याण ज्वैलर्स (Kalyan Jewelers) के 30 शोरूम है. इन देशों में कतर, कुवैत, यूएई, ओमान जैसे देश शामिल हैं. आज कल्याण ज्वैलर्स का मार्केट कैप 17,000 करोड़ रुपये है.