home page

Liquor : खाली पेट शराब पीने के नुकसान और फायदे, एक्सपर्ट ने दी ये राय

Correct way of drinking alcohol: शराब पीना शरीर के लिए हानिकारक होता है ये जानते हुए भी शौक़ीन लोग इसका सेवन करते है। अक्सर शाम ढलते ही लोगों के पेग के गिलास खनकने शुरू हो जाते है। शराब के (alcohol drinking)  साथ अक्सर लोग चकना खाते है। लेकिन अक्सर लोग कन्फ्यूज्ड रहते है की खाली पेट शराब पिए या खाने का बाद इसका सेवन करे। आज इस खबर में हम आपको बताएंगे किस तरीके से शराब पीने से शरीर को (effects of alcohol on body) होगा काम नुक्सान-

 | 
Liquor : खाली पेट शराब पीने के नुकसान और फायदे, एक्सपर्ट ने दी ये राय

HR Breaking News (ब्यूरो)। चाहे कोई फंक्शन हो या दोस्तों के साथ कोई मुलाकात, शराब उसमें शामिल होती है, लेकिन शराब पीने से पहले भोजन करना (Alcohol Consumption) चाहिए या बाद में, यह सदियों पुराना सवाल कई लोगों को हैरान कर देता है। मिक्सोलॉजिस्ट नितिन तिवारी ने इस बारे में अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर बात की। एक इंस्टाग्राम पोस्ट में उन्होंने शरीर में शराब के अवशोषण के पीछे के विज्ञान के बारे में बताया और बताया कि कैसे शराब दिमाग (Alcohol side effects) और शरीर पर अपना प्रभाव छोड़ती है।

 

ऐसे होती है अल्कोहल एब्जॉप्शन (Alcohol Absorption) 

 

नितिन तिवारी बताते हैं, "जब हम शराब का पहला घूंट लेते हैं, तो यह सबसे पहले पेट में पहुंचती है। अगर हमने शराब पीने से पहले कुछ खाया है, तो पेट भोजन को तोड़ने में व्यस्त रहता है। जिसकी वजह से शराब पेट (Alcohol effects on stomach)  में ही रह जाती है।"

Mukesh Ambani ने जब बचाई छोटे भाई अनिल अंबानी की साख, जानिए क्या था पूरा मामला

पेट शराब को ऐसे एब्जॉब करता है 

पेट शराब को एब्जॉब (alcohol absorption) करता है लेकिन छोटी आंत की तुलना में धीमी गति से। इसका मतलब यह है कि अगर हमने कुछ भी नहीं खाया है, तो शराब तेजी से पेट से गुजरती है और छोटी आंत तक पहुंच जाती है, जिसका सरफेस एरिया बड़ा होता है, जिससे शराब ब्लड फ्लो (Alcohol increases blood flow) में तेजी से एब्जॉर्ब हो जाती है।

शराब का ये होता पड़ता है प्रभाव

जैसे ही शराब ब्लड फ्लो में प्रवेश करती है, ये हार्ट और ब्रेन तक जाती है, जहां यह अपना नशीला प्रभाव छोड़ती है। अगर आप खाली पेट (Empty stomach drinking) पीते हैं, तो शराब पेट के लंबे प्रोसेसिंग समय को दरकिनार कर देती है और सीधे छोटी आंत में पहुंच जाती है। इसका मतलब यह है कि शराब तेजी से एब्जॉर्ब हो जाती है और हमें तेजी से नशा देती है।

UP News : बच्चों की इस गलती पर माता पिता को जाना होगा जेल, यूपी सरकार ने लागू किए नए नियम
 

खाली पेट शराब  का असर

खाली पेट शराब पीने से शराब का असर बढ़ जाता है। पेट में खाना न होने की वजह से एब्जॉर्प्शन रेट तेज हो जाती है, जिससे अल्कोहलिक इफेक्ट (Empty stomach alcohol effects)  तेज हो जाता है। यह बताता है कि जो लोग पहले से कुछ खाए बिना शराब का सेवन करते हैं, वे अक्सर इसके प्रभावों को अधिक तीव्रता से अनुभव करते हैं और तेजी से नशे में आ जाते हैं।

रात 10 बजे के बाद रंगीन हो जाती हैं Delhi की ये 5 जगहें, पुलिस की भी नो टेंशन

भरे पेट शराब पीने का प्रभाव

शराब पीने से पहले भोजन करने से अनुभव में काफी बदलाव आ सकता है। भोजन एक सुरक्षात्मक बाधा के रूप में कार्य करता है, जो छोटी आंत में शराब के (Wine & Whisky)  अवशोषण को धीमा कर देता है। एब्जॉर्प्शन प्रक्रिया में देरी करके, भोजन का सेवन प्रभावी ढंग से ब्लड फ्लो में अल्कोहल (alcohol decreases blood flow) की तेजी से वृद्धि को कम करता है। इसका मतलब यह है कि अगर आप शराब पीने से पहले भोजन करते हैं, तो आप लंबे समय तक अपने अल्कोहलिक बेवरेज के जरिए इसके इफेक्ट का आनंद ले सकते हैं।

बैलेंस बनाना

हालांकि शराब के एब्जॉर्प्शन पर भोजन (Drinking Beer and whisky) के प्रभाव पर विचार करना जरूरी है, लेकिन बैलेंस बनाना भी उतना ही जरूरी है। खाली पेट शराब पीने से नशा तेज हो सकता है जबकि शराब से पहले भोजन करने से इसके प्रभाव को धीमा करने में मदद मिल सकती है। भोजन का आनंद लेने और अल्कोहलिक बेवरेज (alcohol beverages) का स्वाद लेने के बीच संतुलन बनाना एक जिम्मेदार और आनंददायक ड्रिंक  के अनुभव की कुंजी है। अंत में, चुनाव आपका है।

लाखों में बिक रहे RBI के गलत प्रिंट किए हुए नोट, इस कारण है इतनी वैल्यू

लेकिन अगर आप हेल्थ एक्सपर्ट्स के सुझावों पर ध्यान देते हैं, तो पीने से पहले कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन का हल्का भोजन और पीने के दौरान हल्का स्नैक्स लेना अगले दिन के कष्टप्रद हैंगओवर (hangover due to alcohol) से बचने के लिए आइडियल है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।