home page

Alcohol Drinking : एक महीना शराब नहीं पीने से शरीर में होते हैं ये 10 बड़े बदलाव

Want To Leave Drinking Habit : शराब की एक बूंद भी हमारे शरीर के लिए काफी नुकसानदायक होती है। अक्सर आपने देखा होगा कि कई लोगों को शराब पीने की आदत बन चुकी होती है जिसे दूरी बनाना बेहद मुश्किल होता है। आज की इस खबर में हम आपको बताने जा रहे हैं कि अगर एक महीना शराब का सेवन नहीं किया जाए तो हमारे शरीर में क्या-क्या बदलाव दिखने लगते हैं। आइए खबर मैं जानते हैं शराब के इस तथ्य से जुड़ी पूरी जानकारी।
 | 

HR Breaking News, Digital Desk - शराब पीना आजकल के युवाओं के बीच एक ट्रेंड बन गया है। हर पार्टी को शराब के बिना अधूरी माना जाता है। जब आप शराब पीना बंद कर देते हैं तो जीवन में बहुत कुछ ऐसा घटता है, जिसकी वैल्यू आप समझने लगते हैं। शराब की लत लगने के पहले भी ये चीजें आपके पास थीं लेकिन तब आपको इनकी वैल्यू का अहसास नहीं था। 


लेकिन नशे से बाहर आने के बाद जब आप एक बार फिर इन्हें अनुभव करते हैं तो जिंदगी कहीं अधिक हसीन और आसान लगने लगती है। हम सेहत से संबंधित 10 ऐसी बातों के बारे में बात कर रहे हैं, जिन्हें आप शराब पीना छोड़ने के बाद अनुभव करते हैं... 


शराब के बारे में कुछ जरूरी बातें (Some important things about alcohol)


दुनिया में जितने भी ट्रॉमा और बुरी चीजें होती हैं, उनमें करीब 50 प्रतिशत में शराब किसी ना किसी रूप में जिम्मेदार होती है।
आत्महत्या से लेकर रोड ऐक्सिडेंट्स तक, करीब 40 प्रतिशत मामलों में शराब का रोल होता है।
हालांकि शराब अगर इतनी ही बुरी होती तो युगों से चलन में नहीं होती, लेकिन इसकी लत और अति बुरी होती है। 
कई दवाएं बनाने में भी शराब का उपयोग होता है, लेकिन जब आप इसे नशे के लिए लेते हैं, तब यह सिर्फ आपकी सेहत की दुश्मन के रूप में काम करती है।
आपने ऐसी कई स्टोरीज पढ़ी और सुनी होंगी, जिनमें कहा जाता है कि रोज एक पैग रेड वाइन या दूसरी ड्रिंक्स लेना सेहत के लिए अच्छा होता है, लेकिन ऐसा सिर्फ सच हो ये जरूरी नहीं है। हो सकता है एक पैग से भी कम मात्रा में लेने पर ये आपके शरीर को कोई नुकसान ना पहुंचाए।

 

शराब छोड़ने पर शरीर में होते हैं ये बदलाव (Changes in body after quitting alcohol)
 

फिगर ठीक होने लगता है


शराब का सेवन मोटापा बढ़ाने का काम करता है। अगर कोई जेनेटिक कारणों की बात छोड़ दी जाए तो शराब पीने वाले लोग अक्सर मोटे होते हैं।
 

लिवर की सेल्फ रिपेयरिंग


लिवर का काम शरीर से टॉक्सिन्स को फिल्टर करने में मदद करना भी होता है। लेकिन शराब तो पूरी तरह टॉक्सिक ही होती है। ऐसे में आपके लिवर की शामत आ जाती है। अच्छी बात यह है कि जब आप शराब पीना छोड़ देते हैं तो आपका लिवर खुद से रिपेयर होने लगता है और रिजनरेट होने लगता है, जिसका असर आप अपनी सेहत में होते सुखद बदलावों में महसूस कर सकते हैं।
 

प्यार की बयार 


नशा छोड़ने के बाद आपकी लव और आपकी फैमिली लाइफ कहीं अधिक बेहतर हो जाती है। इस बदलाव को आप और आपकी फैमिली दोनों ही इंजॉय करते हैं।
 

नींद अच्छी हो जाती है


नशा होने पर आपके शरीर को वो आराम नहीं मिलता, जो उसे चाहिए होता है। फिर भले ही आप शराब पीने के बाद कितने भी घंटे सो लें। लेकिन इसे छोड़ने के बाद जब आप सोते हैं तो शरीर खुद ही हीलिंग कर पाता है और ब्रेन में ऐसे फील होता है, जैसे नई स्फूर्ति और ताजगी मिली हो।


आप बीमार कम पड़ते हैं


ड्रिंकिंग के चलते कई तरह की शारीरिक और मानसिक समस्याएं (problems due to drinking) आपको घेरे रहती हैं। लेकिन जब आप इसे छोड़ देते हैं तो आप पहले की तुलना में काफी कम बीमार पड़ते हैं और शरीर में एक अलग लेवल की एनर्जी और पॉजिटिविटी का अनुभव करते हैं।


कैंसर का खतरा कम होता है


शराब सीधे तौर पर ना सही लेकिन कई अन्य कारणों से चलते कैंसर को ट्रिगर करने की वजहों में गिनी जताी है। इसलिए जब आप पीना छोड़ देते हैं तो इस जानलेवा बीमारी से भी खुद को बचा लेते हैं और इसके इलाज में होने वाले आर्थिक नुकसान से भी बच जाते हैं।


परफॉर्मेंस में सुधार 


आप पाएंगे कि शराब छोड़ने के बाद अपनी पर्सनल लाइफ (Personal life after quitting alcohol) से लेकर ऑफिस या वर्कप्लेस पर भी आपकी परफॉर्मेंस में काफी सुधार हो जाता है, जो आपको लाइफ में सक्सेस की तरफ ले जाता है।


विड्रॉल की समस्या 


हो सकता है कि शराब छोड़ने के शुरुआती दिनों (early days of quitting alcohol) में आपको दिक्कत आए। जैसे, हाथ कांपने लगें, जी मिचलाने लगे, शराब की तेज तलब उठने लगे। इस तरह की हर स्थिति से निपटने में आपके सायकाइट्रिस्ट या थेरेपिस्ट आपकी मदद कर सकते हैं, उनसे तुरंत सहायता के लिए कहें। शराब छोड़ना मुश्किल नहीं है और आप अपनी पीने की लत (alcohol addiction) पूरी तरह कंट्रोल कर सकते हैं।


लव लाइफ बेहतर होती है (alcohol effect on love life)


महिलाओं और पुरुषों की प्रेम लाइफ को शराब कई तरह से प्रभावित करती है। महिलाओं में जहां रोमांस की इच्छा में कमी और कंसीव करने में समस्या जैसी दिक्कतें सामने आती हैं वही, ज्यादातर पुरुषों में नशे के कारण इरेक्टाइल डिसफंक्शन और ऊर्जा की कमी जैसी समस्याएं सामने आती हैं।
 

ब्लड प्रेशर सही रहता है


शराब छोड़ने के बाद आपका बीपी सही रहने लगता है।जबकि नशा करने के दौरान अक्सर यह बढ़ा हुआ ही रहता है। जब बीपी नियंत्रित रहता है तो हार्ट डिजीज का खतरा कम होता है।