home page

Chanakya Niti : पति-पत्‍नी के रिश्‍ते को तबाह कर देती हैं ये चीजें

Chanakya Niti in Hindi : पति-पत्‍नी के रिश्‍ते में यदि गांठ पड़ जाए तो फिर से पहले जैसा भरोसा या प्रेम आना मुश्किल होता है। आचार्य चाणक्‍य ने अपने नीति शास्‍त्र चाणक्‍य नीति में पति-पत्‍नी के लिए कुछ जरूरी बातें बताई हैं। आइए खबर में जानते है इनके बारे में विस्तार से।
 | 
Chanakya Niti : पति-पत्‍नी के रिश्‍ते को तबाह कर देती हैं ये चीजें

HR BREAKING NEWS (ब्यूरो)। पति-पत्‍नी का रिश्‍ता बहुत अहम होता है क्‍योंकि पति-पत्‍नी की एक-दूसरे के असल साथी होते हैं। इसलिए इस रिश्‍ते को जन्‍म-जन्‍मांतर का रिश्‍ता कहा गया है। पति-पत्‍नी के रिश्‍ते में दोनों बराबर होते हैं, वरना दांपत्‍य जीवन को बेपटरी होने में देर नहीं लगती है। महान मार्गदर्शक आचार्य चाणक्‍य ने अर्थशास्‍त्र, राजनीति, कूटनीति के अलावा रिश्‍तों को लेकर भी बहुत महत्‍वपूर्ण बातें बताई हैं। चाणक्‍य नीति में बताया गया है कि पति-पत्‍नी के रिश्‍ते को मजबूत रखने के लिए और उसमें प्रेम-भरोसे की कमी ना हो, इसके लिए पति और पत्‍नी दोनों को कुछ बातें हमेशा ध्‍यान रखनी चाहिए, वरना उनका रिश्‍ता टूटने में देर नहीं लगेगी। 
 

सुखद दांपत्‍य चाहते हैं तो गांठ बांध लें ये बातें 


यदि पति-पत्‍नी चाहते हैं कि उनके बीच हमेशा प्रेम रहे, उनके रिश्‍ते में कभी दूरियां न आएं तो उन्‍हें कुछ बातें हमेशा ध्‍यान में रखनी चाहिए। वरना छोटी लगने वाली गलतियां उनके वैवाहिक जीवन को बड़ा नुकसान पहुंचाएंगी।


अपमान


 पति-पत्‍नी के रिश्‍ते में प्रेम होना जरूरी है लेकिन उससे भी ज्‍यादा जरूरी है कि वे एक-दूसरे का सम्‍मान करें। यदि पति-पत्‍नी एक-दूसरे का सम्‍मान नहीं करेंगे, दूसरों के सामने या अकेले में एक-दूसरे का अपमान करेंगे तो उनके बीच का प्रेम भी जल्‍द ही खत्‍म हो जाएगा। पति-पत्‍नी के रिश्‍ते में सम्‍मान की कमी रिश्‍ते को कमजोर कर देती है और तोड़ भी देती है। 


शक


पति-पत्‍नी के बीच भरोसा होना बहुत जरूरी है। यदि वे एक-दूसरे से बातें छिपाएंगे या उनके बीच शक की भावना आएगी तो इस स्थिति में उनका रिश्‍ता लंबे समय तक टिक पाना मुश्किल है। बेहतर होगा कि अपने रिश्‍ते को लेकर दूसरों से गोपनीयता रखें यानी कि पति-पत्‍नी आपस की बातें दूसरों को ना बताएं लेकिन आपस में एक-दूसरे से कुछ ना छिपाएं। 


सहयोग की कमी


पति-पत्‍नी का रिश्‍ता आपसी सहयोग से चलता है। इसमें एक भी व्‍यक्ति के योगदान की कमी न केवल पति-पत्‍नी के रिश्‍ते को बल्कि पूरे परिवार को नुकसान पहुंचाती है। लिहाजा जरूरी है कि पति-पत्‍नी दोनों ही अपनी जिम्‍मेदारियां और कर्त्‍तव्‍य याद रखें और उनका पालन भी करें।