home page

Delhi High Court : पत्नी इस काम के लिए करती है मना, हाईकोर्ट ने विश्वास की कमी बताकर तलाक देने से किया मना

High Court Decision - पति पत्नी का रिश्ता प्यार और विश्वास पर टिका होता है। पति पत्नी के बीच छोटी छोटी बातों को लेकर वाद-विवाद होना आम बात है। लेकिन कई मामलों में देखा गया है कि थोड़ी सी भी अनबन होते ही कोर्ट में तलाक के लिए पहुंच जाते हैं। हाल ही में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। दरअसल, विवाहित जोड़े के बीच प्यार और विश्वास की कमी होने की वजह से लड़ाई इतनी बड़ गई कि पति ने कोर्ट में तलाक के लिए याचिका दर्ज करवा दी। जिसपर हाई कोर्ट ने सुनवाई करते हुए तलाक देने से मना कर दिया। आइए नीचे खबर में जानते हैं क्या है पूरा मामला- 

 | 
Delhi High Court : पत्नी इस काम के लिए करती है मना, हाईकोर्ट ने विश्वास की कमी बताकर तलाक देने से किया मना

HR Breaking News (ब्यूरो)। दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने तलाक के एक मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि विवाहित जोड़ों के बीच चिड़चिड़ेपन, मामूली मनमुटाव और विश्वास की कमी को मानसिक क्रूरता के साथ भ्रमित नहीं किया जा सकता है। हाईकोर्ट ने सोमवार को पत्नी के खिलाफ पति की याचिका पर तलाक देने के निचली अदालत के आदेश को बरकरार रखने से इनकार करते हुए यह टिप्पणी की।


पति ने पत्नी पर लगाए आरोप- 

गलत खाते में पैसा ट्रांसफर होने पर कैसे मिलेगा वापस, जानिए RBI का नियम

पति ने पत्नी द्वारा मानसिक क्रूरता के कारण तलाक मांगा और आरोप लगाया कि उसे ससुराल में उसके साथ रहने में कोई दिलचस्पी नहीं थी और वह चाहती थी कि पति उसके साथ उसके मायके में 'घर जमाई' के रूप में रहे। दोनों की शादी 1996 में हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार हुई और 1998 में दंपति की एक बच्ची हुई।


बहाने से अकेला छोड़ देती थी पत्नी....


पति ने दावा किया था कि उसकी पत्नी किसी न किसी बहाने से उसे अकेला छोड़ देती थी और केवल अपना कोचिंग सेंटर चलाने में रुचि रखती थी। उसने आरोप लगाया था कि उसे यहां तक कि पत्नी उसे संबंध बनाने से भी मना करती थी।

जस्टिस संजीव सचदेवा और जस्टिस मनोज जैन की बेंच ने पत्नी की अपील पर सुनवाई करते हुए कहा कि यद्यपि सेक्स करने से इनकार करना मानसिक क्रूरता का एक रूप माना जा सकता है, लेकिन जब यह लगातार, जानबूझकर और काफी समय तक हो। बेंच ने कहा कि हालांकि, अदालत को ऐसे संवेदनशील और नाजुक मुद्दे से निपटने में बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है।

हाईकोर्ट ने कहा कि इस तरह के आरोप केवल अस्पष्ट बयानों के आधार पर साबित नहीं किए जा सकते, खासकर तब जब शादी विधिवत संपन्न हुई हो। बेंच ने पाया कि पति अपने ऊपर किसी भी मानसिक क्रूरता को साबित करने में विफल रहा है और वर्तमान मामला ''वैवाहिक बंधन में केवल सामान्य मनमुटाव का मामला है।

बेंच ने कहा, "इस बात का कोई सकारात्मक संकेत नहीं है कि पत्नी का आचरण इस तरह का था कि उसके पति के लिए उसके साथ रहना संभव नहीं था। मामूली चिड़चिड़ापन और विश्वास की कमी को मानसिक क्रूरता के साथ भ्रमित नहीं किया जा सकता है।

LPG cylinder price : 1 तारीख से सस्ता हो जाएगा गैस सिलेंडर, जानिये कितनी मिलेगी छूट

अदालत ने यह भी कहा कि केवल यह तथ्य कि महिला ने एक आपराधिक शिकायत के साथ पुलिस से संपर्क किया था, जिसके परिणामस्वरूप उसके पति के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई, जिसे अंततः मामले में संदेह का लाभ दिया गया, क्रूरता नहीं होगी। अदालत ने कहा कि इस प्रकार, जो तस्वीर उभर कर सामने आती है वह बहुत स्पष्ट है। पक्षों के बीच विश्वास, आस्था और प्रेम की कमी हो गई थी, लेकिन इसके बावजूद, वे दोनों परिवार को बचाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे थे। केवल इसलिए कि पत्नी ने अपनी शिकायत के निवारण के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया था, जैसा कि उसके पति ने भी किया था, क्रूरता को बढ़ावा देने के समान नहीं हो सकता है।