home page

Delhi वालों की हो गई मौज, ये सरकारी कंपनी पुराने AC के बदले दे रही नया AC

Cheapest AC : दिल्ली वालों के लिए यह खबर बड़े काम की है। अक्सर हमने देखा होगा कि गर्मी के दिनों में इसी के बिना रहना काफी मुश्किल हो जाता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं उसे सरकारी कंपनी के बारे में जो पुराने एसी के बदले बिल्कुल नया ऐसी दे रही है। आइए जानते है इसके बारे में विस्तार से।
 | 
Delhi वालों की हो गई मौज, ये सरकारी कंपनी पुराने AC के बदले दे रही नया AC

HR Breaking News (ब्यूरो) : गर्मी के दिनों में सबसे ज्यादा कोई चीज इस्तेमाल होती है तो वो है AC। चिलचिलाती गर्मी में AC के बिना सर्वाइव करना बहुत मुश्किल हो गया है। अगर आपके घर में भी AC लगा है और वो पुराना हो गया तो ये खबर आपके काम की साबित हो सकती है। दरअसल, अब पुराने AC को ठीक कराने या नया खरीदने के लिए आपको ज्यादा पैसे खर्च करने की जरुरत नहीं है। आप आधे से भी कम कीमत पर नया AC घर ला सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे…


पुराना लाओ, नया ले जाओ


दरअसल यह स्किम दिल्ली वासियों के लिए है। बिजली कंपनी बीएसईएस (electricity company bses) ने दिल्ली में अपने ग्रहकों के लिए पुराने एसी की जगह नया एयर कंडीशनर देने की योजना (new air conditioner) शुरू की है। इस योजना के तहत अधिकतम मूल्य पर 63 प्रतिशत तक की छूट मिलेगी। कंपनी के मुताबिक इस साल गर्मी अधिक पड़ने का अनुमान है ऐसे में आने वाले दिनों में पारा और चढ़ सकता है। बीएसईएस राजधानी पावर लि। (बीआरपीएल) और बीएसईएस यमुना पावर लि। (बीवाईपीएल) ने वोल्टास, ब्लूस्टार जैसे बड़े AC निर्माताओं के साथ मिलकर AC बदलने की योजना शुरू की है।


क्या है कारण


कंपनी के बयान के अनुसार ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि बिजली खपत को कम किया जा सके। दरअसल कंपनी पुरानी AC लेकर कम बिजली खपत करने वाली AC देगी। यह योजना दक्षिण, पश्चिम, पूर्व और मध्य दिल्ली के घरेलू ग्रहकों के लिए है। इसके तहत अधिकतम खुदरा मूल्य पर 63 प्रतिशत तक की छूट मिलेगी।


इतने AC बदल पाएगें


इस योजना के तहत दक्षिण, पश्चिम, पूर्व और मध्य दिल्ली के लोग अधिकतम तीन एयर कंडीशनर बदल सकते हैं। कुल 40 विंडो और स्प्लिट एसी मॉडल मैजूद है। बीआरपीएल और बीवाईपीएल के ग्रहकों (Customers of BRPL and BYPL) को एक यूनिक अनुबंध खाता (सीए) संख्या के साथ ऊर्जा कुशल एसी पर पर्याप्त छूट के अलावा ग्रहक एसी के मॉडल और प्रकार के आधार पर सालाना 3000 यूनिट तक बिजली बचत कर सकते हैं। आप इसे ‘फर्स्ट कम, फर्स्ट सर्व’ के आधार पर पा सकते है।