home page

IRCTC : एक को 3 दिन, दूसरी को सिर्फ 9 मिनट, ये हैं देश की सबसे लंबे और सबसे छोटे रूट वाली ट्रेनें

IRCTC :  ट्रेन से सफर तो आपने किया ही होगा लेकिन आज हम आपको इस आर्टिकल में भारतीय रेलवे से जुड़ी कई जरूरी जानकारी देने जा रहे है, लेकिन क्या आप रेलवे की सबसे लंबी और सबसे छोटी ट्रेन के बारे में जानते हैं। आइए खबर में जानते है पूरी जानकारी।
 | 
IRCTC : एक को 3 दिन, दूसरी को सिर्फ 9 मिनट, ये हैं देश की सबसे लंबे और सबसे छोटे रूट वाली ट्रेनें

HR Breaking News, Digital Desk - भारतीय रेलवे (Indian Railways) की ट्रेनों से आपने कई बार सफर किया होगा। भारतीय रेलवे नेटवर्क(Indian Railways latest updates) के मामले में दुनिया में चौथे स्थान पर है। भारत में लगभग 2.50 करोड़ लोग हैं जो ट्रेन से सफर करते हैं। भारत में देश के एक कोने से दूसरे कोने तक लंबी रेल यात्रा के साथ-साथ छोटी यात्राएं भी होती हैं, जिनमें मुश्किल से ही समय लगता है। हर रोज लाखों की संख्या में लोग ट्रेन से सफर करते है। कश्मीर से कन्या कुमारी तक रेलवे का नेटवर्क फैला हुआ है। रेलवे से जुड़े कई ऐसे फैक्ट्स (facts related to railways) हैं, जिनके बारे में बहुत लोग नहीं जानते हैं। आज भी हम ऐसे ही एक फैक्ट के बारे में बता रहे हैं। हो सकता है कि आपसे में बहुत से लोगों ने इन ट्रेनों में सफर भी किया हो, लेकिन उससे जुड़े रोचक जानकारी पर शायद गौर न किया है। आज हम बात करेंगे देश के सबसे लंबे और सबसे छोटे ट्रेन जर्नी की।

 

सबसे लंबा रेल सफर​ (longest train journey)


भारतीय रेलवे की सबसे लंबी ट्रेन जर्नी को पूरा करने में पूरे 3 दिन लग जाते हैं। ये ट्रेन चार हजार से अधिक की की दूरी तय करती है। 9 राज्यों से होकर गुजरती है। इन ट्रेन का नाम है विवेक एक्सप्रेस (Vivek Express). सबसे लंबे रूट पर चलने वाली इस ट्रेन विवेक एक्सप्रेस की घोषणा रेल बजट 2011-12 के दौरान की गई थी। ट्रेन की शुरुआत स्वामी विवेकानंद के 150वें जन्मदिवस के मौके पर हुई थी। यह ट्रेन असम के डिब्रूगढ़ से तमिलनाडु के कन्याकुमारी तक चलती है। डिब्रूगढ़ से कन्याकुमारी के बीच की 4189 किलोमीटर की दूरी को तय करने में इस ट्रेन को 3 दिन लगते हैं। सफर के दौरान ट्रेन 59 स्टेशनों पर रुकती है।

क्या है ट्रेन का शेड्यूल​(What is the train schedule?)


डिब्रूगढ़-कन्याकुमारी विवेक एक्सप्रेस (Dibrugarh–Kanyakumari Vivek Express) को इस सफऱ को दूरा करने में 74 घंटा 35 मिनट का वक्त लगता है। ये ट्रेन हफ्ते में केवल दो दिन चलती है। डिब्रूगढ़ से शाम 7.25 पर निकलकर करीब 74.35 घंटे बाद रात 22.00 बजे कन्याकुमारी स्टेशन पहुंचती है।
 

​देश की सबसे छोटी ट्रेन​ (The country's smallest train)


सबसे लंबी दूरी की ट्रेन के बाद सबसे छोटे ट्रेन सफर की बात करते हैं। सबसे छोटे ट्रेन रूट की दूरी सिर्फ 3 किमी की है। इस दूरी को तय करने में करने में ट्रेन को सिर्फ 9 मिनट चलते है। सबसे छोटा रेल रूट महाराष्ट्र के नागपुर और अजनी के बीच है। इस रूट पर 4 से 5 ट्रेनें चलती है। विदर्भ एक्सप्रेस, नागपुर-पुणे गरीब रथ और नागपुर-पुणे एक्सप्रेस ट्रेन इस दूरी को 9 मिनट में तय कर लेती है। अगर किराए की बात करें तो स्लीपर का किराया मात्र 145 और थर्ड एसी का किराया 500 रुपये है।