home page

Petrol pump fraud: सावधान! पेट्रोल पंप पर सिर्फ जीरो दिखाकर ऐसे करते है आपकी जेब ढीली, बचने के लिए इन जगहों पर भी डाले पैनी नजर

Petrol Pump fraud saving tips: पेट्रोल पंप पर अक्सर लोगों के साथ फ्रॉड के मामले आपने जरूर सुने या पढ़े होंगे। दरअसल, जब भी ज्यादातर लोग पेट्रोल भरवाने जाते है तो अक्सर जीरो पर ही अपनी नजर गड़ाकर रखते है। इसी चीज का फ़ायदा (petrol pump fraud) उठाकर उन्हें ठगी का शिकार बनाया जाता है। आपको बता दें, अगर पेट्रोल पंप वाला जीरो चेक करने के लिए बोले तो फ्रॉड (how to get saved from fraud) से बचने के लिए एक और चीज जरूर चेक करें। आइए इसके बारे में विस्तार से जानते है-

 | 
Petrol pump fraud: सावधान! पेट्रोल पंप पर सिर्फ जीरो दिखाकर ऐसे करते है आपकी जेब ढीली, बचने के लिए इन जगहों पर भी डाले पैनी नजर 

HR BREAKING NEWS (ब्यूरो)। जब हम पेट्रोल पंप पर तेल भरवाने के लिए जाते हैं तो पंप कर्मचारी तुरंत जीरो चेक करने के लिए बोलता है। यह इसलिए बोला जाता है ताकि आप देख सकें की मीटर जीरो (Petrol pump zero fraud)  रुपये से चालू हो रहा है। अगर आप चूक गए और मीटर में पहले से रकम मौजूद रही तो आपके साथ ठगी हो सकती है। पर क्या फ्रॉड से बचने के लिए सिर्फ जीरो चेक करना काफी है? आपको बता दें कि पेट्रोल पंप मशीन ( petrol pump frauds in india) पर जीरो के अलावा आपको एक और जगह पैनी नजर रखनी चाहिए, वो है फ्यूल डेंसिटी।

पेट्रोल पंप पर पेट्रोल या डीजल भरवाते समय केवल जीरो चेक करना ही नहीं बल्कि डेंसिटी चेक (How to check Petrol density) करना भी बहुत जरूरी है। डेंसिटी से पता चलता है कि फ्यूल कितना प्योर या असली है। पेट्रोल पंप पर मिलने वाले फ्यूल की डेंसिटी सरकार द्वारा तय की गई सीमा के अंदर होनी चाहिए। अगर डेंसिटी निर्धारित सीमा (Petrol density limit) से कम या ज्यादा है, तो इसका मतलब है कि फ्यूल में मिलावट की गई है।

Petrol-Diesel Price: पेट्रोल-डीजल के दाम गिरे धड़ाम, बिहार-यूपी में अब इतना हुआ सस्ता, जानें आज के लेटेस्ट रेट

 

पेट्रोल की सही डेंसिटी क्या है

 

पेट्रोल की डेंसिटी 730 से 800 किलोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर के बीच होनी चाहिए। अगर डेंसिटी 730 किलोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर (Petrol pump jump trick)  से कम है, तो इसका मतलब है कि फ्यूल में पानी या किसी दूसरी चीज की मिलावट की गई है। इस तरह आपकी जेब पर डाका डाला जा सकता है। इसके अलावा ऐसा पेट्रोल आपकी कार के इंजन को नुकसान पहुंचा सकता है।

Bank Closed: जून में बस इतने दिन ही खुलेंगे बैंक, अटक ना जाए जरूरी काम जाने से पहले जरूर देखें RBI की हॉलिडे लिस्ट

 

 

डीजल की डेंसिटी क्या होती है

डीजल की डेंसिटी 830 से 900 किलोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर के दरम्यान होनी चाहिए। अगर फ्यूल डेंसिटी इस लिमिट (Diesel density limit) के बाहर है तो समझ जाएं कि तेल में मिलावट की गई है। ऐसा डीजल खरीदा तो ना केवल पैसे बर्बाद होंगे बल्कि गाड़ी के इंजन में खराबी आने का भी खतरा रहेगा।

 

Petrol-Diesel Price: पेट्रोल-डीजल के दाम गिरे धड़ाम, बिहार-यूपी में अब इतना हुआ सस्ता, जानें आज के लेटेस्ट रेट

कैसे करें डेंसिटी चेक?

 

पेट्रोल पंप पर डेंसिटी चेक करने के लिए पेट्रोल पंप मशीन (petrol pump zero fraud) पर डेंसिटी की स्क्रीन ढूंढनी होगी। अब यहां आपको डेंसिटी की मात्रा चेक करनी है। अगर डेंसिटी तय लिमिट के अंदर है तो फ्यूल असली है। अगर डेंसिटी तय लिमिट से अलग है तो तेल मिलावटी हो सकता है।

अगर डेंसिटी में गड़बड़ी नजर (petrol pump tips) आती है तो पेट्रोल पंप के कर्मचारी से इसकी तुरंत शिकायत करें। आपकी शिकायत पर कार्रवाई नहीं की जाती है तो कंज्यूमर फोरम में केस दर्ज किया जा सकता है।