home page

Delhi वालों की हुई मौज, अब 24 घंटे खुले रहेंगे रेस्टोरेंट, नाइटलाइफ होगी गुलजार

Delhi Nightlife - दिल्ली वालों के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है। दरअसल, ज्यादातर लोग दिन भर अपने काम में व्यस्त रहते हैं ऐसे में दोस्तों और पार्टनर के साथ दिन में एंजॉय नहीं कर पाते हैं। जिसके बाद नाइटलाइफ एंजॉय करने का ऑप्शन बचता है। वहीं, दिल्ली में रेस्टोरेंट और स्टार होटल आदि जल्द बंद हो जाते हैं। लेकिन अब दिल्ली में रेस्टोरेंट और फूड चेन चौबीसों घंटे खुले रहेंगे। अब आप अपने दोस्तों के साथ पूरी रात पार्टी कर सकते हैं। 

 | 

HR Breaking News (ब्यूरो)। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिन्हें लेट नाइट पार्टी करना या रात में दोस्तों के साथ किसी रेस्टोरेंट में खाने के लिए जाना अच्छा लगता है। ऐसे फूड लवर्स के लिए गुडन्यूज है। दरअसल, जल्द ही आपको अपने नजदीकी मेट्रो स्टेशन या बस टर्मिनल पर खाने-पीने के आउटलेट चौबीसों घंटे खुले मिलेंगे। दिल्ली की नाइटलाइफ (Delhi nightlife) को बढ़ावा देने के लिए सरकारी एजेंसियों ने रेस्टोरेंट और फूड चेन को 24 घंटे खुले रहने के लिए लाइसेंस देना शुरू कर दिया है। ये रेस्टोरेंट शहर के ट्रांसपोर्ट हब और स्टार होटलों (Transport hub and star hotels) में चलेंगे।


क्या है प्लान

अधिकारियों के अनुसार, पांच और चार स्टार होटलों में, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशनों (railway stations), मेट्रो स्टेशनों और आईएसबीटी परिसरों में अतिरिक्त शुल्क का भुगतान करने के बाद 24 घंटे फूड आउटलेट खोलने का लाइसेंस देने का फैसला पिछले साल एलजी वीके सक्सेना (LG VK Saxena) की पहल पर लिया गया था। इनमें से कुछ रेस्टोरेंट शराब भी परोस सकते हैं, लेकिन बार को रात 1 बजे बंद कर दिया जाएगा, इस टाइम को आबकारी विभाग ने तय किया है। हालांकि, खाना 24 घंटे उपलब्ध रहेगा।

नाइटलाइफ होगी गुलजार

कुछ शहर गर्व से कहते हैं कि वे कभी नहीं सोते हैं। दिल्ली अबतक ऐसा दावा नहीं कर सकती थी क्योंकि यहां, देर रात को रेस्टोरेंट बंद हो जाते हैं। दशकों से यही सिलसिला चला आ रहा है। लेकिन अब 24 घंटे रेस्टोरेंट खुले रहेंगे जोकि एक नया और रोमांचक कॉन्सेप्ट (अवधारणा) है। इसके अलावा इसमें चुनौती भी है। रात भर खुले रहने वाले रेस्टोरेंट से रोजगार के अवसर पैदा होने की उम्मीद है और इससे बाहर खाना खाने की नई संस्कृति को बढ़ावा भी मिलेगा। हालांकि हमें यह नहीं भूलना चाहिए की रात का माहौल सेफ नहीं है। ऐसे में अथॉरिटीज को ऑपरेटर्स और ग्राहकों दोनों के लिए सुरक्षित वातावरण भी उपलब्ध कराना होगा। योजना की सफलता इस महत्वपूर्ण पहलू पर निर्भर करेगी।


पेपरवर्क भी हुआ आसान

एक रिपोर्ट के अनुसार, सूत्रों ने बताया कि बड़ी संख्या में आवेदन प्राप्त हुए हैं और लाइसेंस देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। व्यापार में ईज ऑफ डूईंग सुनिश्चित करने के लिए लाइसेंस लेने के लिए जरूरी दस्तावेजों की संख्या में भी भारी कमी की गई है। अधिकारियों ने बताया कि सामान्य आवेदन फॉर्म से 140 फील्ड हटा दिए गए हैं, जिससे यह उपयोगकर्ता के अनुकूल हो गया है। इसके अलावा 21 पेज वाले फॉर्म को घटाकर केवल नौ कर दिया गया है। अलग-अलग एफिडेविट की जगह एक सामान्य अंडटेकिंग ली जा रही है।