home page

Buying Home Tips: घर खरीदते समय न करें ये 5 फाइनेंस से जुड़ी गलतियां, सारी उम्र रहेंगे परेशान

Buying Home Tips: अगर आप भी घर खरीदने की प्लानिंग कर रहे है तो ये खबर आपके लिए है। दरअसल घर खरीदते समय की फाइनेंस से जुड़ी गलतियां ये पांच गलतियां आपको सारी उम्र के लिए परेशानी में डाल सकती है... ऐसे में घर खरीदते वक्त आपको यह गलतियां नहीं करनी चाहिए.
 
 | 

 HR Breaking News, Digital Desk- Buying Home Tips: ऐसा कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा कि हम में से ज्यादातर लोग अपना खुद का घर खरीदने का सपना देखते हैं. बल्कि बैंक बाजार एस्पिरेशन इंडेक्स 2019 के मुताबिक 12 शहरों में रह रहे 1,800 सैलरीड महिला और पुरुष के जीवन का सबसे जरूरी गोल घर खरीदना है. हालांकि यह सपना पूरा करना काफी महंगा पड़ता है क्योंकि इससे हमारे बाकी खर्चों और आर्थिक जीवन का बैलेंस (balance) बिगड़ जाता है. ऐसे में सवाल ये उठता है कि घर खरीदने के लिए आपको किस हद तक जाना चाहिए जिसका असर आपके दूसरे सपनों और पर्सनल फाइनेंस पर न पड़े. घर खरीदते वक्त आपको यह गलतियां नहीं करनी चाहिए.

1. अपनी पूरी सेविंग्स खर्च कर देना-

हम लगातार बचत करते हैं ताकि जरूरत के वक्त वह काम आ सके. घर खरीदने से बड़ी क्या जरूरत होगी और ऐसे में घर खरीदने के लिए अपनी सेविंग्स का इस्तेमाल करना आम बात है. खासकर की जिन चीजों के लिए आप लोन नहीं ले सकते हैं जैसे डाउन पेमेंट, रजिस्ट्रेशन और इंटीरियर डेकोरेशन आदि. हालांकि अपने इमरजेंसी फंड को डाउन पेमेंट जैसी जरूरी चीजों के लिए भी खर्च करना ठीक बात नहीं. ऐसा करने से आपको आने वाले समय में मुश्किल हो सकती है.

2. लोन: अलग-अलग लेंडर्स के ऑफर चेक न करें-

महीनों खोजने के बाद आपको अपने बजट में मनपसंद प्रॉपर्टी मिलती है और जल्दी घर खरीदने के चक्कर में आप बिना जांच-परख किए पहले लेंडर से ही होम लोन ले लेते हैं.

बहुत से बैंक और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन्स होम लोन देते हैं. ऐसे में जरूरी नहीं कि आपको मिला पहला ऑफर ही बेस्ट ऑफर हो. होम लोन लेते वक्त हमेशा ब्याज दरें, लोन की अवधि, कम पेनल्टी रेट, क्विक प्रोसेसिंग टाइम, बेहतर प्रीपेमेंट रेट और लचीले नियमों की तुलना करनी चाहिए. बिना चेक करे जल्दबाजी में लोन लेना आपको भविष्य में महंगा पड़ सकता है.

3. अपनी आर्थिक क्षमता से मंहगा लोन लेना

अक्सर इंसान एक बार का खर्चा मानकर अपनी आर्थिक क्षमता से महंगा घर खरीद लेते हैं. इससे बाद में उन्हें ईएमआई चुकाने और मेंटेनेंस कॉस्ट जैस खर्च उठाते हुए मुश्किल पड़ती है साथ ही इसका असर बाकी खर्चों पर भी पड़ता है. इसलिए हमेशा ऐसा घर खरीदना बेहतर होता है, जिसे आप फिलहाल अफोर्ड कर पाएं और लंबी अवधि में उसकी EMI भी भर पाएं. आने वाले समय में आपकी आमदनी बढ़ेगी लेकिन साथ-साथ आपके खर्चें भी बढ़ेंगे. इसलिए अपनी वर्तमान क्षमता के हिसाब से ही घर खरीदें. अपनी एक्स्ट्रा सेविंग्स से भविष्य में आप अपना लोन जल्दी चुकता भी कर सकते हैं.

4. डाउन पेमेंट तैयार न रखना-

होम लोन खरीदते वक्त आपको प्रॉपर्टी की कीमत की 10 से 25 फीसदी अमाउंट की डाउन पेमेंट आपको खुद करनी पड़ती है. अगर आप 50 लाख का लोन लेने की सोच रहे हैं तो आपके पास 5 से 12.5 लाख तैयार रहने चाहिए. इसके अलावा आपको ऐसे खर्च जिनके लिए लोन नहीं लिया जा सकता है को भी ध्यान में रखना चाहिए जैसे रजिस्ट्रेशन, स्टांप ड्यूटी, बैनामा, जीएसटी, ब्रोकरेज, इंटिरियर डेकोरेशन, बिजली की फिटिंग, पानी की सप्लाई आदि.

इसलिए बहुत महीनों पहले से ही फाइनेंशियल प्लानिंग करना शुरू कर दें जिससे आपको अपने रिटायरमेंट फंड या इमरजेंसी फंड से पैसा निकालने की जरूरत न पड़े. आप चाहे तो यह फंड तैयार करने के लिए कहीं निवेश करना भी शुरू कर सकते हैं.

5. दूसरे फाइनेंशियल गोल्स से समझौता करना-

घर खरीदना बहुत से लोगों का सपना होता है लेकिन यह सिर्फ उनका इकलौता सपना तो नहीं होता. बहुत से लोग घर खरीदने के चक्कर में अपनी आमदनी का एक बड़ा हिस्सा उसमें लगा देते हैं जिससे बाद में उन्हें बच्चों की उच्च शिक्षा और रिटायरमेंट जैसी चीजों के लिए पैसा जमा करने में दिक्कत होती है. अंत में या तो वे डिप्रेस हो जाते हैं या फिर उन्हें लोन लेता पड़ता या फिर इससे भी बुरा कि सस्से दामों पर अपना घर बेचना पड़ता है.