home page

IAS Success Story : सोशल मीडिया स्टार बनी आईएएस अफसर , महज 23 साल की उम्र में हासिल की कुर्सी

IAS Divya Tanwar Success Story : सफलता की कहानी तो आपने बहुत सुनी होगी लेकिन आज हम आपको एक ऐसी सफल महिला अफसर के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने महेश 23 साल की उम्र में आईएएस की वर्दी हासिल कर ली, आइये खबर में जानते हैं इस सोशल मीडिया स्टार के बारे में जिन्होंने ग्रेजुएशन के बाद यूपीएससी की तैयारी कर कम उम्र में सफलता प्राप्त कर ली।
 
 | 
IAS Success Story : सोशल मीडिया स्टार बनी आईएएस अफसर , महज 23 साल की उम्र में हासिल की कुर्सी

HR Breaking News, Digital Desk - यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा को दुनिया की सबसे टफ परीक्षाओं में से एक माना जाता है। इसे पास करने का सपना तो हर कोई देखता है लेकिन इसे पास केवल चुनिंदा लोग ही कर पाते हैं। क्योकि इसे पास करने के लिए दिन रात मेहनत करनी पड़ती है। इसके साथ ही लगभग हर विषय का ज्ञान होना भी जरूरी है। अगर कोई यूपीएससी (UPSC) परीक्षा को पास कर लेता है तो आसपास के इलाके में उसके चर्चे शुरू हो जाते हैं। साथ ही बता दें इनमें सफल होने वाले उम्मीदवारों को उनकी रैंक और वरीयता के आधार पर IAS, IPS, IFS आदि पद अलॉट किए जाते हैं।


IAS Divya Tanwar 2021 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। उन्होंने 2021 में ऑल इंडिया रैंक (AIR) 438 के साथ संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की परीक्षा पास की। इसके बाद यह 2023 के बेच में आईएएस अधिकारी बन गई। 
उन्होंने अपने पहले अटेंप्ट में 21 साल की उम्र में परीक्षा पास की। वह यूपीएससी (UPSC) परीक्षा के कई उम्मीदवारों के लिए एक मोटिवेशन हैं और उनके वीडियो अक्सर सोशल मीडिया पर वायरल हो जाते हैं।


आईएएस दिव्या तंवर हरियाणा के महेंद्रगढ़ की रहने वाली हैं। IAS Divya Tanwar ने शुरुआत में अपने होम टाउन के सरकारी स्कूलों में पढ़ाई की, लेकिन बाद में उनका चयन नवोदय विद्यालय महेंद्रगढ़ के लिए हो गया।
उनके पास विज्ञान (बीएससी) में स्नातक की डिग्री है। ग्रेजुएशन के बाद ही उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी थी। उन्होंने 1.5 साल की तैयारी के साथ अपना पहला यूपीएससी (UPSC) अटेंप्ट दिया।


उनके घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी. 2011 में पिता की मौत के बाद परिवार को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। दिव्या पढ़ाई में होशियार थीं और इसीलिए उनकी मां बबिता तंवर उनका साथ देती हैं।


दिव्या ने कोई कोचिंग नहीं ली और यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास कर ली. बाद में, उन्होंने अपनी यूपीएससी मुख्य परीक्षा की तैयारी के लिए टेस्ट सीरीज समेत अलग अलग ऑनलाइन सोर्सेज से मदद ली। प्रीलिम्स क्लियर करने के बाद वह यूपीएससी (UPSC) कोचिंग मेंटरशिप प्रोग्राम में शामिल हुईं।


उसके पास उचित वित्तीय सहायता नहीं थी, लेकिन उनकी मां ने हमेशा अपनी बेटी को पढ़ाई करने और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। दिव्या जब परीक्षा की तैयारी कर रही थीं तब उनकी मां बबिता ने भी उन्हें आर्थिक मदद की थी।