home page

Success Story : जूस बेचने वाले ने 7 रुपये की चीज 25 में बेचकर खड़ी की 3000 करोड़ की कंपनी, ऐसे चल पड़ा बिजनेस

Success Story : यूट्यूब पर सबसे बड़ा चैनल होने का रेकॉर्ड एक भारतीय कंपनी के नाम है। इसका नाम है टी-सीरीज। गुलशन कुमार ने इसकी स्थापना की थी। गुलशन कुमार एक साधारण परिवार से थे। उन्होनें अपनी मेहनत के दम पर बडा़ मुकाम हासिल किया। जानिए इनकी सफलता की पूरी कहानी...
 | 
Success Story : जूस बेचने वाले ने 7 रुपये की चीज 25 में बेचकर खड़ी की 3000 करोड़ की कंपनी, ऐसे चल पड़ा बिजनेस

HR Breaking News (नई दिल्ली)। क्या आप जानते हैं कि यूट्यूब पर सबसे ज्यादा सब्सक्राइब्ड चैनल कौन सा है? इसका जवाब है टी-सीरीज (T-Series)। यूट्यूब पर इसके सब्सक्राइबर्स की संख्या 25.2 करोड़ है। टी-सीरीज की बादशाहत उस दौर में भी थी जब कैसेट्स का जमाना था। कभी फलों का जूस बेचने वाले गुलशन कुमार ने टी-सीरीज की शुरुआत की थी। आज यह 3,000 करोड़ रुपये की कंपनी है। गुलशन कुमार की कहानी जीरो से लेकर हीरो बनने तक की है। गुलशन कुमार अपनी जिंदगी में कड़ी मेहनत की थी और तब जाकर बड़ा मुकाम पाया था। गुलशन कुमार आज भले ही हमारे बीच में नहीं हैं लेकिन उनके फर्श से अर्श तक पहुंचने का सफर युग-युगांतर तक लोगों को प्रेरित करता रहेगा।

गुलशन कुमार का जन्म लोअर मिडिल क्लास परिवार में जन्म हुआ। उनका परिवार वेस्ट पंजाब से दिल्ली आया था। उनके पिता फलों का जूस बेचते थे। यही परिवार की कमाई का जरिया था। गुलशन कुमार बचपन में पिता के इस काम में हाथ बंटाया करते थे। उनकी जिंदगी में बदलाव 1970 के दशक में आया। उस जमाने में म्यूजिक लग्जरी हुआ करती थी और आम आदमी की पहुंच से दूर था। वह केवल आकाशवाणी के जरिए ही संगीत सुन सकता था। इस बीच 1978 में सरकार ने अपनी इम्पोर्ट पॉलिसी में बदलाव किया। इससे देश में टेप रिकॉर्ड का आयात शुरू हुआ। इसके साथ ही कैसेट का बिजनस भी चलने लगा।

कैसे हुई शुरुआत:

गुलशन कुमार ने भी इस बिजनस में हाथ आजमाया। उन्होंने एक ओरिजनल कैसेट खरीदी और फिर एक खाली कैसेट खरीदी। उन्होंने ओरिजिनल को खाली कैसेट में कॉपी किया। इस तरह टी-सीरीज की शुरुआत हुई। कंपनी ने सात रुपये में एक कैसेट तैयार करके उसे 25 रुपये में बेचा। इस तरह एक कैसेट पर उन्हें 300 परसेंट मार्जिन मिलने लगा। गुलशन कुमार ने म्यूजिक इंडस्ट्री में कदम रखा और खूब पैसा कमाया। उन्होंने म्यूजिक इंडिया और पॉलीडोर जैसी कंपनियों के दबदबे को खत्म किया। कैसेट्स और म्यूजिक को घर-घर पहुंचाने का श्रेय गुलशन कुमार को ही जाता है।



ऑडियो कैसेट में सफलता के बाद गुलशन कुमार ने फिल्म इंडस्ट्री की ओर रुख किया और वह मुंबई चले गए। इस दौरान उन्होंने सोनू निगम समेत कई गायकों को ब्रेक दिया। भक्ति म्यूजिक ने टी-सीरीज को घर-घर तक लोकप्रिय बना दिया। उन्होंने म्यूजिक और बॉलीवुड फिल्मों के अलावा हिंदू पौराणिक कथाओं से संबंधित फिल्मों और सीरियल्स को भी प्रोड्यूस किया। टी-सीरीज द्वारा प्रॉड्यूस पहली फिल्म थी आशिकी। इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर सफलता के झंडे गाड़े।

यूट्यूब पर सबसे बड़ा चैनल:

धार्मिक गीतों के जरिये पहचान बनाने वाले गुलशन कुमार दान-पुण्य के लिए भी काफी चर्चा में रहते थे। उन्होंने माता वैष्णो देवी में एक भंडारे की स्थापना की थी। इसके जरिये आज भी माता के दरबार में जाने वाले श्रद्धालुओं और तीर्थयात्रियों को नि:शुल्क भोजन उपलब्ध कराया जाता है। इस बीच 1997 में गुलशन कुमार की हत्या कर दी गई। उसके बाद उनके परिवार ने टी-सीरीज को संभाला। कंपनी ने बदलाव के साथ खुद को बदला। आज यूट्यूब से कंपनी की काफी कमाई होती है। यूट्यूब पर कंपनी की पहली वीडियो 2010 में आई थी और आज यह यूट्यूब का सबसे बड़ा चैनल है।