home page

Success Story : 20 बार फेल होने के बाद भी नही छोड़ी जिद और अब खड़ी कर दी 500 करोड़ की कंपनी

Success Story In Hindi : सफलता की कहानी तो आपने बहुत सुनी होगी लेकिन आज हम आपको जो बताने जा रहे है वो हर किसी को प्रेरणा देने वाली है, आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे है जिन्होनें 20 बार फेल होने के बाद भी नहीं मानी हार और अब बन गए 500 करोड़ की कम्पनी के मालिक...
 | 
Success Story : 20 बार फेल होने के बाद भी नही छोड़ी जिद और अब खड़ी कर दी 500 करोड़ की कंपनी

HR Breaking News, Digital Desk - अक्सर लोग एक से दो बार असफलता लगने के बाद ही निराश हो जाते हैं. लेकिन जूनूनी ऐसे भी होते हैं कि प्रत्येक असफलता से वे सीखते हैं और अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए नई राह बनाते हैं. हम आपकी मुलाकत ऐसी ही एक शख्सियत से करवाने जा रहे हैं. ये हैं शार्क टैंक इंडिया सीजन-2 के नए शार्क विकास डी नाहर(Vikas D Nahar).  

20 बार फेल होने के बाद खड़ी की 500 करोड़ की कंपनी

इस रिपोर्ट में वह बताते नजर आ रहे हैं कि किस तरह उन्होंने लगातार असफलता हाथ लगने के बाद भी हार नहीं मानी. अंतत: 500 करोड़ की एक कंपनी खड़ी कर दी. विकास डी नाहर ने साल 2016 में महज 10 हजार रुपये से हैपिलो कंपनी की शुरुआत की थी. आज इस कंपनी का नेटवर्थ 500 करोड़ है.

बार बार कोशिश ही सफलता का राज

विकास डी नाहर बताते हैं कि 500 करोड़ की कंपनी बनाने के लिए उन्हें 20 बार असफलता का सामना करना पड़ा. लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी. वह मजबूत इरादे के साथ डटे रहे. वह कहते हैं कि मेरी सफलता का सबसे बड़ा राज यही है कि बार बार कोशिश की.
 

नौकरी छोड़कर किया एमबीए

विकास डी नाहर ने बैंगलोर यूनिवर्सिटी से बीसीए करके जैन ग्रुप के साथ काम करना शुरू कर दिया था. बीच में उन्होंने नौकरी से छुट्‌टी लेकर सिम्बायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी से एमबीए किया. इसके बाद सात्विक स्पेशियलिटी फूड्स में बतौर प्रबंध निदेशक जॉब शुरू की. इस कंपनी के साथ काम के दौरान मिले अनुभव ने ही हैपिलो कंपनी बनाने में मदद की.