home page

pre-paid smart meter : UP के गांव-गांव में लगाए जाएंगे प्री-पेड स्मार्ट मीटर, अब नही होगी बिजली चोरी

pre-paid smart meter in UP : उत्तर प्रदेश में बिजली चोरी (electricity in UP) से होने वाले घाटे को कम करने के लिए प्रदेश के सभी उपभोक्ताओं के घरों में स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाए जाएंगे। यूपी सरकार की इस पहल के बाद अब बिजली चोरी होने के मामले खत्म हो जाएंगे। आइए जान लेते है इस बारें में पूरी जानकारी कि कब तक लग जाएंगे ये स्मार्ट मीटर....

 | 
pre-paid smart meter : UP के गांव-गांव में लगाए जाएंगे प्री-पेड स्मार्ट मीटर, अब नही होगी बिजली चोरी

HR Breaking News (ब्यूरो) : यूपी में बिजली विभाग (UP Electricity Department) की ओर से स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने की तैयारी की जा रही है। इस योजना पर 25 हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। प्रदेश के तीन करोड़ घरों से पुराने मीटर को बदल कर नए मीटर लगाने की तैयारी है। इससे लोगों के बिजली खर्च कम हो सकेगा। उत्तर प्रदेश में रिवैंप योजना (Revamp Scheme in Uttar Pradesh) के तहत अब जिलों में भी प्री-पेड मीटर लगाई जा रहे हैं।  बिजली विभाग ने इसके लिए सर्वे शुरू कर दिया है। बरेली जनपद में 4.50 लाख स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाए जाने हैं। शहरी क्षेत्र में 1.40 लाख  जबकि देहात क्षेत्र में 3.10 लाख स्मार्ट मीटर लगाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। 


बता दें कि अभी तक बिजली विभाग के अंतर्गत शहर में 57000 उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट मीटर लगाए जा चुके हैं। इन स्मार्ट मीटर (smart meter) की वजह से बिलिंग और मीटर जंप होने जैसे शिकायतों में काफी कमी आई है। वहीं अब स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगने से उपभोक्ताओं को बिजली उपयोग करने के बाद मोबाइल की तरह पहले रिचार्ज करना होगा। रिचार्ज खत्म होने पर उपभोक्ता के मोबाइल फोन पर मैसेज जाएगा। वही एक प्रीपेड मीटर पर 6230 खर्च का अनुमान है जिसके लिए उपभोक्ता को कोई भुगतान नहीं करना होगा। 


हर गांव में लगेंगे अब स्मार्ट मीटर


यूपी के ग्रामीण इलाकों में भी अब रिवैंप योजना (revamp plan) के अंतर्गत स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाए जाने की तैयारी है। बरेली जनपद में अभी तक 450000 स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इन प्रीपेड मीटर से जहां उपभोक्ताओं को कई तरह की सहूलियत भी मिलेगी। वहीं ग्रामीण इलाकों में प्रीपेड मीटर से उपभोक्ता भी नाराज है। उपभोक्ताओं का कहना है कि गांव में अभी भी ज्यादातर लोग गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे हैं वो कैसे प्री-पेड बिजली का इस्तेमाल (Pre-paid electricity usage) कर सकेंगे। 

आधुनिक सुविधाओं से लैस होंगे ये स्मार्ट प्री-पेड मीटर


जानकारी के लिए बता दें कि ग्रामीण और शहरी इलाकों में लगने वाले प्री-पेड स्मार्ट मीटर अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस (Pre-paid smart meter equipped with smart features) होंगे। इन मीटर से छेड़छाड़ नहीं किया जा सकेगा। ऐसा करने पर सीधे कंट्रोल रूम को मैसेज जाएगा। उपभोक्ता प्री-पेड सिम की तरह पहले रिचार्ज करा कर स्मार्ट स्पीड मीटर का लाभ उठा सकेंगे। रिचार्ज खत्म होते ही बिजली की आपूर्ति ठीक हो जाएगी। 


शहर और देहात में कुल 4.50 लाख उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट मीटर (smart meter) लगाए जाने का लक्ष्य निर्धारित है। मीटर लगाने का खर्च भी निगम वहन करेगी। इसके लिए सर्वे की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। पहले चरण में शहर में शत प्रतिशत  उपभोक्ता के यहां स्मार्ट प्री-पेड मीटर लगाए (Install smart pre-paid meter) जाएंगे। इसके बाद देहात में भी इस तरह के प्री-पेड मीटर लगाए जाएंगे।