home page

Success Story: कभी इंजीनियर से बनना पड़ा था वेटर, मूवी टिकट भी बेचीं, आज मेहनत से हासिल कर ही ली IRS की कुर्सी

IRS Officer Jaiganesh Success Story: हौसलों में दम हो तो मंजिल मिल ही जाती है। ऐसी ही कहानी है  गरीब परिवार में जन्मे आईआरएस अफसर (IRS officer kaise bane) जयगणेश की जो अपने परिवार को खुश रखना चाहते थे। आपको बता दें, उन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद इस सपने को पूरा करने के लिए वेटर तक का काम किया। और यूपीएससी परीक्षा (UPSC civil services exam) में 6 बार फेल होकर भी उन्होंने हार नहीं मानी और आखिरकार आईआरएस बनकर परिवार का नाम रोशन किया। आइए नीचे विस्तार से जानते है  उनकी कड़ी मेहनत की ये कहानी-

 | 
Success Story: कभी इंजीनियर से बनना पड़ा था वेटर, मूवी टिकट भी बेचीं, आज मेहनत से हासिल कर ही ली IRS की कुर्सी 

HR BREAKING NEWS (ब्यूरो)।  हर व्यक्ति के पास जिंदगी जीने के दो ऑप्शन होते हैं- पहला तो यह कि जो जैसा चल रहा है, उसे वैसा ही (UPSC Success Story) रहने दो। दूसरा, थोड़ी मेहनत कर अपनी तकदीर खुद लिखो। वेल्लोर जिले के विनवमंगलम नाम के एक छोटे (Villanganam Village) से गांव में जन्मे और पले-बढ़े जयगणेश के परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर थी। उनके पिता एक कारखाने में काम करते थे। उससे किसी तरह से परिवार का भरण-पोषण हो पाता था।

 

Petrol Diesel Price Today: चुनाव रिजल्ट से ठीक पहले एकदम लुड़के पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए अपने शहर के ताजा रेट

 

घर की आर्थिक स्थिति थी कमजोर

जयगणेश के पिता एक लेदर फैक्ट्री में काम करके महीने में 4500 रुपये कमाते थे। जयगणेश अपने घर के बड़े बेटे थे। ऐसे में घर चलाने की जिम्मेदारी उन पर भी थी। वह अपने परिवार को गरीबी के दंश से (Hindi motivational story) बाहर निकालना चाहते थे। वह पढ़ाई में काफी होशियार थे। घर की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के बावजूद भी जयगणेश ने इस मामले में कोई कोताही नहीं बरती। उन्होंने अपने करियर और जिंदगी (UPSC Exam strategy) को नई दिशा देने के लिए खूब मेहनत से पढ़ाई की। पढ़िए आईआरएस के जयगणेश की सक्सेस स्टोरी।

 

Gold Silver Price: औंधे मुँह गिरे सोने-चांदी के दाम, लगातार दूसरे दिन आई गिरावट, जानें आज के लेटेस्ट रेट्स

 

स्कॉलरशिप से की थी पढ़ाई


के जयगणेश ने 12वीं बोर्ड परीक्षा में करीब 92 प्रतिशत अंक हासिल किए थे। इसके बाद स्कॉलरशिप की मदद से उन्होंने मेकैनिकल इंजीनियरिंग कोर्स में एडमिशन लिया। इंजीनियर बनने के बाद उन्होंने प्राइवेट जॉब स्टार्ट ((How to crack UPSC Exam) कर दी। फिर उन्हें महसूस हुआ कि उनकी तरह कई अन्य परिवार भी आर्थिक स्थिति से जूझ रहे हैं। अपने परिवार के साथ बाकियों की भी मदद करने के लिए उन्होंने इंजीनियर की नौकरी छोड़ दी और कलेक्टर (collector kaise bane) बनने की तैयारी में जुट गए।

UP Weather: यूपी के 44 जिलों में आज धूल भरी आंधी के साथ होगी जमकर बारिश, लखनऊ में मौसम बना सुहावना, जाने IMD का लेटेस्ट अपडेट

कोचिंग की फीस भरने के लिए बने वेटर


के जयगणेश ने यूपीएससी परीक्षा की जानकारी इकट्ठा की। फिर चेन्नई में स्थित एक कोचिंग में एडमिशन ले लिया। वहां की फीस भरने (UPSC Exam Tips) के लिए उनके पास रुपये नहीं थे। अपना खर्च चलाने और यूपीएससी कोचिंग फीस भरने के लिए उन्होंने एक सिनेमा हॉल में बतौर बिलिंग ऑपरेटर काम करना शुरू कर दिया। वहां उन्हें महीने में 3 हजार रुपये सैलरी (UPSC Exam syllabus) मिलती थी। साल 2004 में वह यूपीएससी परीक्षा में फेल हो गए। इसके बाद उन्होंने सिनेमा हॉल वाली नौकरी से रिजाइन कर दिया।

Petrol Diesel Price Today: चुनाव रिजल्ट से ठीक पहले एकदम लुड़के पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए अपने शहर के ताजा रेट

वेटर बनकर की पढ़ाई


वह समझ चुके थे कि यूपीएससी परीक्षा आसान नहीं है। इसकी तैयारी करने के लिए पढ़ाई के घंटे बढ़ाने होंगे। लेकिन नौकरी छोड़कर (IAS officer kaise bane) सिर्फ पढ़ाई करने का ऑप्शन उनके पास था नहीं। इसलिए उन्होंने एक रेस्त्रां में वेटर का काम शुरू कर दिया। इससे उन्हें पढ़ाई के लिए ज्यादा वक्त मिलने लगा। जयगणेश अपने पहले 2 प्रयासों में यूपीएससी प्रीलिम्स परीक्षा (UPSC prelims Exam) भी पास नहीं कर पाए था। फिर उन्होंने एक कोचिंग में सोशियोलॉजी पढ़ाना शुरू किया।

Gold Silver Price: औंधे मुँह गिरे सोने-चांदी के दाम, लगातार दूसरे दिन आई गिरावट, जानें आज के लेटेस्ट रेट्स

6 बार हुए फेल


जयगणेश दिमाग के साथ ही धैर्य के भी धनी हैं। वह लगातार 6 बार यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा में फेल हुए। इसके बावजूद (UPSC interview tips) उन्होंने हार नहीं मानी। वह अपनी तरफ से तैयारी करते रहे। यह उनकी मेहनत का ही नतीजा था कि यूपीएससी परीक्षा के 7वें अटेंप्ट में वह यूपीएससी प्रीलिम्स, यूपीएससी मेंस और यूपीएससी इंटरव्यू में सफल (UPSC Prelims Syllabus) हो पाए। इसमें 156वीं रैंक के साथ वह आईआरएस अफसर बन गए। फिलहाल वह चेन्नई, तमिल नाडु और पुडुचेरी क्षेत्र में एडिशनल सीआईटी (OSD) पद पर हैं।